img

नीतीश से नाराज शरद यादव गुट की समानांतर बैठक

बिहार में गठबंधन की सरकार बदल जाने के बाद से नीतीश कुमार और वरिष्ठ नेता शरद यादव के बीच रिश्ते लगातार बिगड़ते ही जा रहे हैं। 19 अगस्त को राजधानी पटना में जहां रविंद्र भवन में जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक होगी तो वहीं दूसरी ओर शरद यादव अपने समर्थकों के साथ श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में सम्मेलन करेंगें। जदयू से निलंबित नेता अली अनवर के मुताबिक पहले उन्होंने 19 अगस्त को पार्टी की बैठक में भाग लेने का फैसला किया था लेकिन एक-एक करके हम सभी को निलंबित कर दिया गया है और वे लगातार शरद जी का अनादर कर रहे हैं, इसलिए शरद यादव गुट ने अलग से बैठक बुलाई है। अली अनवर ने शरद यादव की अगुवाई वाले गुट को ही वास्तविक जनता दल (युनाइटेड) बताया। नीतीश कुमार के खिलाफ बगावती तेवर दिखाने के बाद शरद यादव को जनता दल यूनाइटेड ने राज्यसभा में संसदीय दल के नेता के पद से हटा दिया था। उनके साथ नीतीश कुमार के खिलाफ बगावत करने वाले राज्यसभा के सांसद अली अनवर के खिलाफ भी कार्रवाई की गई थी। इसके बाद बिहार में शरद यादव के करीबी 21 नेताओं को पार्टी से निकाल दिया गया, क्योंकि वे लोग शरद यादव की यात्रा में शामिल हुए थे। गुरूवार को दिल्ली में शरद यादव ने साझा विरासत बचाओ कार्यक्रम किया, जिसमें हजारों की संख्या में लोग जुटे, शरद यादव के आह्वान पर करीब 17 विपक्षी दल एक साथ आए। कार्यक्रम के अच्छे रिस्पांस के बाद से शरद यादव के बागी तेवर और तेज हो गए हैं, और अब 19 अगस्त को अलग राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक करने का ऐलान किया है। आगे ये मामला चुनाव आयोग के सामने भी जा सकता है। जिसमें पार्टी के नाम और चुनाव चिन्ह पर भी मामला गर्मा सकता है।        

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

  • काश, समय से पहले ना गए होते कांशीराम....

    कांशीराम जी की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष...ये कहने में शायद किसी को कोई ऐतराज नहीं होगा कि बाबा साहब के बाद कांशीराम जी बहुजनों के सबसे बड़े नेता थे। और उनकी असमायिक मौत से बहुजन समाज का जो नुकसान…

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े