img

चार साल बाद नीतीश फिर एनडीए की शरण में

पटना, 19 अगस्त 2017, चार साल बाद नीतीश कुमार फिर एनडीए की शरण में चले गए हैं, नीतीश कुमार के घर हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में एनडीए में शामिल होने का फैसला लिया गया। बैठक में पार्टी नेता केसी त्यागी ने इसका प्रस्ताव रखा जिसे सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि पार्टी में कोई दो फाड़ नहीं है। 71 विधायक, 30 एमएलसी और सभी पार्टी पदाधिकारी नीतीश कुमार के साथ हैं, बैठक में पार्टी के बागी नेता शरद यादव पर भी बड़ी कार्रवाई की चर्चा हुई, लेकिन फिलहाल उसे टाल दिया गया है। बैठक में जदयू के सभी आमंत्रित 70 सदस्यों में से 67 सदस्य शामिल हुए। एनडीए में शामिल होने के प्रस्ताव पर मुहर लगने के बाद नेता आरसीपी सिंह ने संगठन प्रस्ताव पेश किया। पार्टी के सदस्यों ने राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार से शरद यादव पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर उनपर कड़ी कार्रवाई करने की बात कही, लेकिन इसे फिलहाल टाल दिया गया है। सूत्रों के मुताबिक अभी पार्टी उनकी गतिविधियों का आंकलन कर रही है और संभवत: लालू यादव की 27 अगस्त की रैली के बाद ही इसपर फैसला होगा। गौरतलब है कि नीतीश कुमार ने पिछले महीने राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस के साथ अपनी पार्टी के महागठबंधन से नाता तोड़कर बिहार में बीजेपी के साथ मिलकर नई सरकार बनाई थी। और पिछले लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी की तरफ से नरेंद्र मोदी को पीएम उम्मीदवार घोषित करने के विरोध में जदयू ने 2013 में एनडीए से भी 17 साल पुराना नाता तोड़ लिया था। और 2015 में राजद और कांग्रेस के साथ महागठबंधन किया था।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

  • काश, समय से पहले ना गए होते कांशीराम....

    कांशीराम जी की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष...ये कहने में शायद किसी को कोई ऐतराज नहीं होगा कि बाबा साहब के बाद कांशीराम जी बहुजनों के सबसे बड़े नेता थे। और उनकी असमायिक मौत से बहुजन समाज का जो नुकसान…

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े