img

पुणे नेशनल डिफेंस अकादमी में भ्रष्टाचार, प्रिंसिपल समेत 5 के खिलाफ मामला दर्ज

पुणे- राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) में भ्रष्टाचार का खुलासा हुआ है। अकादमी में शिक्षकों के चयन और नियुक्ति में अनियमितताओं और गड़बड़ी की बात सामने आई है। सीबीआई ने इस मामले में एनडीए के प्रिंसिपल समेत कई प्रफेसरों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुणे के खड़कवासला में नेशनल डिफेंस अकादमी के प्रिंसिपल समेत कई विभागों के एचओडी और प्रोफेसरों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

खडकवासला अकादमी के प्रिंसिपल ओम प्रकाश शुक्ला पर शिक्षक भर्ती में अनिमितताओं का आरोप है। सीबीआई ने शुक्ला के अलावा 3 अन्य प्रोफेसरों को भी मामले में आरोपी बनाया है। बता दें कि शुक्ला 2011 में एलीट आर्म्ड फोर्स के प्रिंसिपल पद पर तैनात हुए हैं।

सीबीआई ने एनडीए के प्रिंसिपल के अलावा पॉलिटिकल साइंस के प्रोफेसर, कैमिस्ट्री के असिस्टेंट प्रोफेसर और मैथ के असिस्टेंट प्रोफेसर पर आपराधिक षड्यंत्र, और भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम के तहत केस दर्ज किया है। सीबीआई ने बुधवार को सभी आरोपियों के घरों और दफ्तरों पर छापामार कार्रवाई की है। मामले से जुड़े साक्ष्यों की तलाश में प्रोफेसरों के आवासों और दफ्तरों तक को खंगाले जा रहे हैं। 

सभी पर शिक्षक भर्ती में अनिमितताओं के आरोप हैं। इन पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 120(बी), 420, 465, 471 और भ्रष्टाचार नियंत्रण कानून की धाराएं 13(2) और 13(एक) के तहत केस दर्ज किया गया। सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया कि, प्राप्त जानकारी के आधार पर एजेंसी ने पिछले साल अगस्त में प्रारंभिक जांच शुरू की गई थी। जिन दस्तावेजों की हमने जांच की है, उनके आधार पर हमने पाया कि इन पांच वरिष्ठ संकाय प्रमुखों ने नियुक्ति और प्रमोशन के लिए नकली दस्तवेजों की इस्तेमाल किया था। 

सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा, एजेंसी फिलहाल इस बात की जांच कर रही है कि इस मामले में अन्य अकादमी के सदस्य तो संलिप्त नहीं हैं। 2012 में, सीबीआई ने अकादमी में 'सी' क्लास के कर्मचारियों की भर्ती में घोटाला पाया था। एजेंसी वर्तमान में कैडेटों के लिए ब्रांडेड कपड़ों की खरीद के लिए अनुबंध आवंटन में हुए कथित भ्रष्टाचार मामले की जांच कर रही है, जिसमें अकादमी के वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े