img

जेल प्रशासन की लापरवाही से चंद्रशेखर की हालत गंभीर, इलाज में बरती गई लापरवाही

सहारनपुर- शुक्रवार को भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर की जेल में अचानक तबियत खराब हो गई, जिसके बाद  उन्हें जिला अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया। उन्हें तेज बुखार था, उन्होंने पेट में दर्द की भी शिकायत की थी, जिसके बाद उन्हें जिला अस्पताल में शिफ्ट करना पड़ा।  डॉक्टरों के अनुसार फिलहाल चंद्रशेखर की हालत में सुधार है। 

भीम आर्मी के पीआरओ कल्याण सिंह ने जानकारी दी कि पिछले कई दिनों से चंद्रशेखर तेज बुखार से जूझ रहे थे लेकिन जेल प्रशासन लगातार उसे गंभीरता से नहीं ले रहा था शुक्रवार को जब चंद्रशेखर की हालत ज्यादा बिगड़ गई और उन्होंने पेट दर्द की शिकायत की तो उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उन्हें आईसीयू में रखा गया और टेस्ट के बाद पता चला कि उन्हें टाइफाइट हो गया है। और टाइफाइड बुखार बिगड़ गया है। जेल प्रशासन पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि जहां चंद्रशेखर को रखा गया है वहां काफी गंदगी और मच्छऱ हैं लेकिन जेल प्रशासन को चंद्रशेखर ही नहीं और कैदियों की भी चिंता नहीं है। उन्होंने कहा कि हमने जेल प्रशासन से गुजारिश की थी कि चंद्रशेखर को मेरठ या दिल्ली के अस्पताल में शिफ्ट करवाया जाए लेकिन प्रशासन चंद्रशेखर के स्वास्थ्य को लेकर लगातार लापरवाह बना हुआ है।

 

चन्द्रशेखर का इलाज कर रहे डॉक्टर ने बताया कि उनकी हालत में सुधार है। और अब वह खतरे से बाहर हैं। पेट मे दर्द के कारणों का पता लगाने के लिए कुछ जांच कराई गई हैं। भीम आर्मी सेना के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण सहारनपुर में प्रदर्शन के बाद भड़की हिंसा की घटनाओं के बाद गिरफ्तार कर लिए गए थे। इसके बाद से ही वे जेल में हैं। 

चंद्रशेखर के भाई ने भी जेल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि उपचार कराने में जेल प्रशासन की ओर से लापरवाही हुई है। जेल में चंद्रशेखर का उत्पीड़न किया जा रहा है। चंद्रशेखर के परिजन इससे पहले भी जेल प्रशासन पर आरोप लगाते रहे हैं। गौरतलब है कि कुछ महीने पहले कुछ कैदियों ने चंद्रशेखर पर जेल में हमला भी किया था। अब अचानक से चंद्रशेखर की हालत बिगड़ने पर उनके परिजनों ने एक बार फिर से जेल प्रशासन पर आरोप लगाए हैं।  

सतीश आज़ाद
सतीश आज़ाद
संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

2 Comments

  •  
    Devendra kumar
    2017-11-02

    ??????? ?? ?? ?? ??? ?? ????? ?? ?????? ???? ?? ?? ??? ???? ?? ??? ??? ??? ?? ???? ?? ???? ???????? ???? ???? ??? ??? ?? ??? ?? ?? ??? ?? ??? ????? ???? ?

  •  
    Badale Singh
    2017-11-01

    Jay bheem

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े