img

यूपी राज्यसभा चुनाव के नतीजों पर बोलीं मायावती, कहा- धनबल और बाहुबल के जोर से जीती बीजेपी

बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने यूपी राज्यसभा चुनाव में बीजेपी के नौवें प्रत्याशी की जीत को अनैतिक करार दिया है। उन्होंने कहा कि इससे बीजेपी गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार की भरपाई नहीं कर सकती।

मायावती ने शनिवार को लखनऊ में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी ने अपने नौवें प्रत्याशी अनिल अग्रवाल को जिताने के लिए केंद्र की मोदी और यूपी की योगी सरकारों की सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया और विधायकों को खरीदने के लिए धनबल का भी खूब इस्तेमाल किया। मायावती ने कहा कि वैसे तो इच चुनाव में धनबल से खरीद को यूपी की आम जनता जनाती है। उन्होंने कहा का विधायकों को डरा-धमका कर आतंक पैदा किया, जिससे उनके पक्ष में वोट दिया। मायावती ने क्रॉस वोटिंग नहीं करने वाले विधायकों को बधाई देते हुए कहा कि बीजेपी ने बीएसपी और एसपी के विधायकों को वोट डालने से रोकने के लिए पूरी ताकत लगा दी। फिर भी हमारे प्रत्याशी भीमराव अंबेडकर को ज्यादा वोट मिले। मायावती ने कहा कि हमारे एक विधायक ने धोखा दिया, जिसको बीएसपी से निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने ये भी कहा कि इसके बावजूद दलित समाज के विधायक कैलाशनाथ सोनकर ने अपनी अंतरात्मा की आवाज पर हमारे प्रत्याशी को वोट दिया।

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा कि मैं बीजेपी एंड कंपनी के लोगों से कहना चाहती हूं कि उन्हें बीएसपी और एसपी के संबंधों को तोड़ने में सफलता नहीं मिलेगी। उन्होंने ये भी कहा कि यूपी राज्यसभा चुनाव के परिणामों से दोनों दलों के संबंधों में एक इंच का भी प्रभाव नहीं पड़ेगा।

आपको बता दें कि यूपी में 23 मार्च को राज्यसभा की 10 सीटों के लिए हुई वोटिंग के नतीजे देर रात को घोषित हुए थे, जिसमें बेजीपी 9 सीटों पर कब्जाय जमाया। बीजेपी के अरुण जेटली, जीएल नरसिम्हा, अशोक वाजपेयी, अनिल जैन, कांता कर्दम, विजयपाल सिंह तोमर, सकलदीप राजभर, हरनाथ सिंह यादव, और अनिल अग्रवाल उच्च सदन में पहुंच गए हैं। जबकि एसपी अपनी प्रत्याशी जया बच्चन को जिताने में कामयाब रही। लेकिन बीएसपी अपने प्रत्याशी भीमराव अंबेडकर को उच्च सदन में नहीं भेज सकी।

ओम प्रकाश
ओम प्रकाश
ब्यूरो चीफ
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े