img

उत्तरप्रदेश- जागरण ग्रुप के अखबार ने वाराणसी फ्लाईओवर हादसे के लिए गृहों को ठहराया जिम्मेदार

उत्तरप्रदेश- मंगलवार को वाराणसी में निर्माणाधीन पुल का गार्डर गिरने से 20 लोगों की मौत हो गई, लेकिन इस दर्दनाक हादसे के लिए देश के एक बड़े ग्रुप के अखबार को सूर्य, मंगल और शनि गृहों की चाल नजर आती है। जी हां जागरण समूह का आईनेक्स्ट का कहना है कि ये घटना गृहों की चाल के कारण घटित हुई है ‘ग्रहों की स्थिति पृथ्वी पर रहने वालों को प्रभावित करती है। ये ग्रह व्यक्ति के अच्छे और बुरे वक्त के लिए जिम्मेदार होते हैं। ग्रहों की विशेष स्थिति प्राकृतिक आपदा, हादसे, आतंकवादी घटनाओं, खून-खराबे आदि का कारण बनती है। फ्लाईओवर हादसे के लिए भी ग्रहों की खास स्थिति जिम्मेदार है।’

अखबार की खबर के अनुसार, योगी सरकार, प्रशासन और फ्लाईओवर बनाने वाले ठेकेदार का इस सबमें कोई दोष नहीं है। ‘होनी’ तो होनी थी, ग्रहों के त्रिकोण से होनी थी। और इन ग्रहों के कारण आगे भी ऐसी ‘होनी’ होती रहेंगी, अखबार का यह भी कहना है कि इस आधार पर हम यह भी मान सकते हैं कि प्राकृतिक आपदाएं प्रकृति के साथ मानवीय खिलवाड़ के चलते नहीं आतीं। सड़क दुर्घटनाएं, आगजनी की घटनाएं या फिर अपराध सभी ग्रहों की उठापटक के कारण ही होते हैं। इसलिए फिर भारतीय अदालतों में पड़े करोड़ों विचाराधीन मामलों को रद्द करके और जेलों में बंद कैदियों को रिहा करके ग्रहों पर मुकदमे चलाए जाएं। खबर के अनुसार आतंकवादी घटनाओं के लिए ग्रह जिम्मेदार हैं इसलिए पाकिस्तान को कुसूरवार न ठहराएं। 

ये बहुत ही शर्म की बात है कि जिस चौथे स्तंभ को देश को सही दिशा की तरफ ले जाना चाहिए वो अंधविश्वास को बढ़ावा दे रहा है और दोषियों के प्रति जवाबदेही तय करने की बजाय उनका जिक्र तक करना मुनासिब नहीं समझता। 


क्या ये संभव नहीं कि इस तरह की रिपोर्टिंग करके और लोगों के बीच ऐसी खबरें देकर वो दोषियों की तरफ से ध्यान हटाने की कोशिश कर रहा हो। 

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े