img

हापुड़ के काठीखेड़ा गांव की स्नेहा और सुमन की डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘पीरियड: एण्ड ऑफ सैंटेंस’ ऑस्कर फिल्म समारोह में प्रदर्शित

किसी ने ठीक ही कहा है  ‘मंजिले उन्हीं को मिलती हैं, जिनके सपनों में जान होती है, सिर्फ पंखों से कुछ नहीं होता दोस्तों हौसलों से उड़ान होती है’ जी हां कुछ ऐसा ही हौसला दिखाया है यूपी के हापुड़ जिले में काठीखेड़ा गांव की स्नेहा और सुमन ने। इन दोनों के हौसलों ने ऐसी उड़ान लगाई, जिसकी बदौलत ये काठीखेड़ा गांव की मिट्टी की खुशबू विदेश में फैला रही हैं। इनकी इस कामयाबी की वजह है सैनिटरी पैड बनाने और नारी स्वास्थ्य जागरुकता को लेकर बनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘पीरियड: एण्ड ऑफ सैंटेंस’, जो आज (23 फरवरी) को अमेरिका में हो रहे ऑस्कर फिल्म समारोह में प्रदर्शित की जा रही है। इसके अलावा 25 फरवरी को भी ये फिल्म प्रदर्शित की जाएगी। ऑस्कर अवॉर्ड के लिए दुनियाभर से केवल 5 फिल्में चयनित की गई हैं, जिसमें पूरे भारत से मात्र एक फिल्म है।   

हापुड़ जिले के काठीखेड़ा गांव छोटे किसान राजेंद्र की 22 वर्षीय बेटी स्नेहा और उसकी रिश्ते में भाभी की कहानी बेहद
रोचक और संघर्षपूर्ण है। कई साल पहले इनके गांव में गैर सरकारी संस्था ‘एक्शन इंडिया’ ने गांव में महिलाओं को जागरुक करने का काम किया और महिलाओं को लघु उद्योग के प्रति बढ़ावा देने के लिए ‘सबला उद्योग समिति’ का गठन किया, जिसमें स्नेहा और रिश्ते में उसकी भाभी सुमन भी जुड़ गई और इन्होंने गांव की अन्य महिलाओं को साथ लेकर सैनिटरी पैड बनाने का उद्योग लगाया, जिसे करने के इन्हें काफी संघर्ष करना पड़ा। इस काम को कराने के लिए इन्हें अपने घर के पीछे एक रास्ता बनवाना पड़ा, जिस रास्ते से महिलाएं काम करने के लिए आया करती थी, वहीं महिलाओं को पहले अपने घर से ये कहकर काम करने के लिए जाना पड़ता था कि वो बच्चों के डाइपर बना रही हैं। इसके अलावा स्नेहा और सुमन का भी कहना है कि उनको काफी संघर्षों से गुजरना पड़ा कि क्योंकि जब उन्होंने सैनिटरी पैड बनाने की शुरुआत की थी तो बच्चों से लेकर गांव की महिलाएं तक उनपर हंसती थी और तरह-तरह की बते कहती थी, लेकिन हमने इसकी परवाह नहीं की और फिर धीरे-धीरे हमारे यहां बने पैड  गांव की महिलाओं के साथ-साथ गैर सरकारी संस्था ‘एक्शन इंडिया’ को भी सप्लाई किए जाते हैं।  

 सामाजिक संस्था ने एक्शन इंडिया के द्वारा स्थापित की गई सबला उद्योग समिति के माध्यम से बनाए जा रहे सैनिटरी पैड को लेकर नारी स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता के लिए वर्ष 2017 में डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘पीरियड: एण्ड ऑफ सैंटेंस’, का निर्माण किया गया, जिसमें स्नेहा ने ही मुख्य किरदार निभाया है। जानकारी के मुताबिक ये फिल्म पिछले दिनों ऑस्कर के लिए नामित की गई थी।  

 डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘पीरियड: एण्ड ऑफ सैंटेंस’, के ऑस्कर में नामित होने के बाद स्नेहा और सुमन सुर्खियों में हैं...उन्हें और संस्था एक्शन इंडिया के संचालकों को फिल्म निर्माताओं की ओर से ऑस्कर समारोह में जाने का निमंत्रण मिला था, जिसके बाद एक्शन इंडिया की डायरेक्टर गौरी चौधरी 17 फरवरी को ही अमेरिका जा चुकी हैं, जबकि काठीखेड़ा गांव की रहने वाली स्नेहा और सुमन के अलावा दिल्ली की रहने वाली अजिया और गुरुग्राम निवासी मंदाकिनी 21 फरवरी को दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से ऑस्कर फिल्म समारोह में शामिल होने के लिए अमेरिका के लिए रवाना हो गई थीं। स्नेहा और सुमन समेत संस्था की संचालिका आज (23 फरवरी को) अपनी फिल्मी के अवसर पर ऑस्कर समारोह में शामिल हो रही हैं और फिर 25 फरवरी को भी अपनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘पीरियड: एण्ड ऑफ सैंटेंस’, के प्रदर्शन के वक्त भी मौजूद रहेंगी।  

सैनिटरी पैड बनाने पर बनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘पीरियड: एण्ड ऑफ सैंटेंस’, के ऑस्कर फिल्म समारोह में प्रदर्शन होने से काठीखेड़ा गांव के लोग बेहद खुश हैं और गांव में चौतरफा खुशी का माहौल है। गांव वाले इस फिल्म को ऑस्कर अवॉर्ड मिलने के लिए प्रार्थना कर रहे हैं।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े