img

मायावती और अखिलेश वाले पोस्टर को बसपा ने फर्जी करार दिया

रविवार को बहुजन समाज पार्टी के नाम से जारी पोस्टर का बीएसपी ने खंडन करते हुए कहा है कि बीएसपी ने कोई पोस्टर जारी नहीं किया है और ये पोस्टर पूरी तरह फर्जी है। बीएसपी के केंद्रीय कार्यालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि बसपा का कोई अधिकारिक ट्विटर अकाउंट नहीं है इसलिए बसपा के ट्विटर हैंडल के नाम से पोस्टर जारी करने का सवाल ही नहीं उठता है। सुश्री मायावती ने इसे प्रथम दृष्टया में ही गलत व शरारतपूर्ण बताया है।
दरअसल रविवार को बहुजन समाज पार्टी के नाम से एक पोस्टर जारी किया गया, जिसमें जानकारी दी गई कि  BSPup2017 ट्विटर हैंडल से एक पोस्टर को ट्वीट किया गया है, पोस्टर में विपक्ष से एकजुट होने का आह्वान किया गया था जिसमें लिखा गया था “सामाजिक न्याय के समर्थन में विपक्ष एक हो” पोस्टर में मायावती के साथ-साथ अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव, लालू यादव, शरद यादव, ममता बनर्जी और सोनिया गांधी की फोटो लगी हुई थी। माना जा रहा था कि पोस्टर विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिश है।
गौरतलब है कि 27 अगस्त को लालू यादव पटना में एक रैली कर रहे हैं, जिसमें सभी विपक्षी दलों को बुलाया गया है, इस पोस्टर को भी उसी कड़ी से जोड़कर देखा जा रहा था। 

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

  • काश, समय से पहले ना गए होते कांशीराम....

    कांशीराम जी की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष...ये कहने में शायद किसी को कोई ऐतराज नहीं होगा कि बाबा साहब के बाद कांशीराम जी बहुजनों के सबसे बड़े नेता थे। और उनकी असमायिक मौत से बहुजन समाज का जो नुकसान…

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े