img

मायावती के भाई आनंद कुमार यूपी से राज्यसभा के लिए हो सकतें हैं बीएसपी-एसपी के संयुक्त प्रत्याशी

यूपी में रविवार को बदले राजनीतिक समीकरण के दौरान सूत्रों के हवाले से एक और बड़ी ख़बर मिल रही है कि बीएसपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आनंद कुमार यूपी से राज्यसभा के लिए बीएसपी-एसपी के संयुक्त उम्मीदवार हो सकते हैं। यूपी में राज्यसभा की एक सीट के लिए बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में एसपी से राज्यसभा और विधान परिषद के चुनाव के लिए बीएसपी-एसपी के बीच समझौते की बात स्वीकार करते हुए अपनी पार्टी की तरफ से एक प्रत्याशी को चुनाव मैदान में उतारने की बात कही थी।
 

फाइल फोटो : आनंद कुमार और मायावती
 
यूपी से राज्यसभा चुनाव के लिए दस सीटों पर 23 मार्च को होने वाले मतदान को देखते हुए सियासी हलचल तेज हो गई हैं। जिसके लिए राज्य की सत्ता पर काबिज बीजेपी अपनी पार्टी के विधायकों की संख्या के आधार पर आठ सीटें जीत जाएगी। वहीं एसपी महज एक प्रत्याशी को ही राज्यसभा में भेज सकेगी। लेकिन एसपी के बाकी विधायकों, बीएसपी और अन्य विपक्षी सहयोगी विधायकों की वोट के आधार पर एक और प्रत्याशी राज्यसभा के लिए चुना जा सकता है। बीएसपी ने इस मौके का लाभ लेने के लिए गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में एसपी के प्रत्याशियों को समर्थन का ऐलान दिया है और राज्यसभा की 1 सीट के लिए एसपी के सामने अपनी दावेदारी जता दी है। जिसके लिए मायावती ख़ुद राज्यसभा में न जाकर अपने छोटे भाई आनंद कुमार को बीएसपी और एसपी का संयुक्त प्रत्याशी घोषित कर सकती हैं।
 

मायावती ने रविवार को लखनऊ में मीडिया के सामने गोरखपुर, फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में एसपी से चुनावी गठबंधन की ख़बरों पर बीएसपी पार्टी का पक्ष रखते हुए कहा था कि उनकी पार्टी का एसपी से अभी कोई चुनावी गठबंधन नहीं हुआ है, बल्कि एसपी से आगामी राज्यसभा और विधान परिषद के चुनावों में वोटों के ट्रांसफर को लेकर बात हुई है। जिसके तहत वह हमारे उम्मीदवार को राज्यसभा में पहुंचाने के लिए वोट देंगे। जबकि हम उनके उम्मीदवार को विधान परिषद के चुनाव में वोट देंगे। ताकि एसपी का एक अतिरिक्त एमएलसी बन सके।
बीएसपी के सूत्रों से मिली ख़बर के मुताबिक मायावती फिलहाल राज्यसभा के लिए उम्मीदवार नहीं बनेंगी, क्योंकि उन्होंने ऐलान कर रखा है कि जब तक केंद्र में मोदी की सरकार है तब तक वो राज्यसभा में चुनकर नहीं जाएंगी। यहां बता दें कि मायावती ने 18 जुलाई 2017 को संसद में सहारनपुर हिंसा के मुद्दे पर बोलने के लिए कम समय दिए जाने से नाराज होकर राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। उस वक्त मायावती ने कहा था कि सत्ता के पक्ष के लोगों ने एक साथ खड़े होकर मुझे सदन में नहीं बोलने दिया गया। इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि जब मैं दलित समाज की बात संसद में नहीं रख सकती, तो मेरे यहां होने का क्या लाभ है।

 
फाइल फोटो : आनंद कुमार और मायावती
 
कौन हैं आनंद कुमार.....
आनंद कुमार बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती के छोटे भाई हैं। उन्हें मायावती ने 14 अप्रैल को 2017 को लखनऊ में राजनीति के मैदान में उतारने की घोषणा की थी। इसके साथ ही मायावती ने आनंद कुमार को बीएसपी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी नियुक्त किया था। इसके अलावा आनंद कुमार एक बड़े कारोबारी भी हैं। अगर आनंद कुमार को यूपी से राज्यसभा चुनाव के लिए बीएसपी-एसपी का संयुक्त प्रत्याशी बनाया जाता है तो ये उनके जीवन का पहला राजनीतिक चुनाव होगा वो भी संसद के उच्चन सदन का जो उन्हें सीधे राष्ट्रीय फलक पर एक सियासी पहचान दिलाएगा।
 
 
राज्यसभा के लिए चुनाव कार्यक्रम...
चुनाव आयोग के मुताबिक संसद के उच्च सदन की 16 राज्यों में खाली हो रही 58 सीटों के लिये निर्वाचन प्रक्रिया आज (5 मार्च को) चुनाव अधिसूचना जारी होने के साथ शुरू होगी। इनमें यूपी से सबसे ज्यादा 10 सीटें खाली हो रही हैं।  चुनाव कार्यक्रम के अनुसार नामांकन की अंतिम तारीख 12 मार्च निश्चित की गयी है। नामांकन पत्रों की जांच 13 मार्च को होगी और नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख 15 मार्च है।  इन सभी सीटों के लिए 23 मार्च को सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक  मतदान होगा और शाम 5 बजे से मतगणना शुरू होगी और उसी दिन नतीजे भी घोषित हो जाएंगे।
 

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े