img

फिर से शब्बीरपुर दोहराने की फ़िराक में दबंग, पुलिस-प्रशासन को बरतनी होगी सतर्कता

सहारनपुर के पुवांरका गांव में दलित समुदाय के युवक को अपनी मेहनत का पैसा मांगना  इतना महंगा पड़ गया कि ठाकुरों ने उसे मजदूरी तो नहीं दी लेकिन जमकर पीटा। जब वो घायल अवस्था में घर पहुंचा तो इसकी शिकायत लेकर घरवाले ठाकुरों के पास गए लेकिन उन्होंने उन पर भी हमला कर दिया, ठाकुरों का गुस्सा यहां नहीं थमा और रात को उन्होंने दलित बस्ती पर हमला कर दिया। जिसमें दलित समुदाय के नौ लोग घायल हुए और ठाकुर समाज के दो लोग घायल हो गए। लोगों का कहना है कि जानबुझकर एक छोटे से मुद्दे को जातीय हिंसा का रुप देने की कोशिश की गई।  



दरअसल सारा मामला तब शुरू हुआ जब अरविंद (पलंबर) एक राजपूत परिवार के घर अपने काम के पैसे लेने गया था। लेकिन उन्होंने उसको मजदूरी देने से मना कर दिया। जब अरविंद अपनी मजदूरी माँगने के लिए अड़ गया तो उन्होंने उसे बेरहमी से पीट दिया। अरविंद प्लम्बर का काम करता है और उसने राजपूत समुदाय के एक घर में काम किया था। जिसकी मजदूरी लेने वह उनके घर गया था। लेकिन जब उन्होंने उसे पैसे देने से इंकार किया तो उसने आगे का
काम नहीं करने को कहा, इस पर परिवार वाले भड़क गए और जातिसूचक शब्दों और गालियों दीं और उसकी पिटाई की 

 ।

हमले में 9 लोग अनुसूचित जाति के और 2 लोग राजपूत समुदाय के घायल हुए हैं। घायल लोगों को सहारनपुर के जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। घायलों का ईलाज चल रहा है। अरविंद को बहुत चोटें आईं हैं उसकी हालत काफी गंभीर बनी हुई है। उसको एमरजेंसी में भर्ती किया गया है।

पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है और राजपुत समुदाय के 21 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। घायलों शुभम कर्णवाल का कहना है कि ये लोग जानबुझकर भयानक दंगे का रूप देने की कोशिश कर रहे हैं। और अभी भी कुछ भी हो सकता है इसलिए पुलिस को गांव में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा देनी चाहिए।    

सतीश आज़ाद
सतीश आज़ाद
संवाददाता
PROFILE

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

  • काश, समय से पहले ना गए होते कांशीराम....

    कांशीराम जी की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष...ये कहने में शायद किसी को कोई ऐतराज नहीं होगा कि बाबा साहब के बाद कांशीराम जी बहुजनों के सबसे बड़े नेता थे। और उनकी असमायिक मौत से बहुजन समाज का जो नुकसान…

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े