img

मायावती का बीजेपी पर हमला, कहा- “अपनी नाकामी छिपाने की कोशिश कर रही है बीजेपी”



बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रविवार को अपने नए आवास 9 माल एवेन्यू में गृह प्रवेश के अवसर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया और बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। इस दौरान मायावती ने कहा कि देश में वर्तमान दौर में अनुसूचित जाति/जनजाति, अल्पसंख्यकों, पिछड़ों, मजदूरों और गरीबों के साथ अत्याचार की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं, जिसके लिए बीजपी शासित राज्यों की सरकारें जिम्मेदार हैं। 

बीएसपी प्रमुख मायावती ने कहा कि अदालतों में अनुसूचित जाति के लोगों की सहायता करने वाले वकील और सामाजिक संस्थाओं के साथ भी बीजेपी की सरकारें अन्याय कर रही हैं। उन्होंने कहा कि 2 अप्रैल 2018 को भारत बंद के दौरान हुई हिंसक घटनाओं के बाद कई अनुसूचित जाति के कई युवाओं और नेताओं को बीजेपी की सरकारों ने अभी तक जेलों में कैद कर रखा है।  इससे अनुसूचित जाति के प्रति बीजेपी की घटिया सोच का पता चलता है।  मायावती ने ये भी कहा कि यूपी समेत देश के अन्य बीजेपी शासित राज्यों में धर्म और गो रक्षा के नाम पर मॉब लिंचिंग की घटनाओं से लोकतंत्र कलंकित हो रहा है। इन घटनाओं के बाद बीजेपी की सरकारों से अनुसूचित जाति के साथ-साथ आदिवासी, पिछड़े और अल्पसंख्यक समाज के लोग बेहद आहत हैं।

मायावती ने मीडिया से बात करते हुए ये भी कहा कि बीजेपी के नेता दोहरे चालचरित्र वाले लोग हैं। इनकी कथनी और करनी में बहुत अंतर है। इसलिए इन पर भरोसा करना अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मारने जैसी बात है। इस दौरान उन्होंने बीजेपी के द्वारा ‘दलित’ शब्द के प्रयोग पर आपत्ति दर्ज कराने के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि हमारे संविधान में हमारे देश का नाम भारत है, लेकिन संघ और बीजेपी के लोग इसे हिंदुस्तान भी कहते हैं। जब उन्हें देश को हिंदुस्तान कहने से आपत्ति नहीं है तो अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों को “‘दलित’ कहने से क्यों दिक्कत  है, जबकि आम बोलचाल की भाषा में एससी-एसटी वर्ग के लिए दलित शब्द का ही इस्तेमाल किया जाता है।

मायावती ने भी कहा कि बीजेपी ने सबका साथ, सबका विकास के सुनहरे दिन के सपने दिखाकर सिर्फ  पूंजीपतियों के हित में काम किया है। जबकि देश में महंगाई बढ़ती जा रही है। इसके अलावा गरीब और गरीब होता जा रहा है। यही नहीं बेरोजगारों को रोजगार देने में भी बीजेपी सरकारें विफल रही हैं। उन्होंने जीएसटी के मुद्दे पर बीजेपी को घेरते हुए कहा कि देश में जीएसटी लागू होने के बाद से व्यापारी बेहद परेशान हैं।  उन्होंने ये भी कहा कि पेट्रोल और डीज़ल की बढ़ती की कीमतों से देश की परिवहन व्यवस्था अव्यवस्थित हो गई है।  

बीएसपी प्रमुख मायावती ने नोटबंदी के मुद्दे पर भी केंद्र की मोदी सरकार की कार्य शैली और नीतियों पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि इनकी इनकी नोटबंदी से देश की अर्थव्यवस्था नीचे चली गई। और 100 से ज़्यादा लोगों की जान चली गयी थी। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के फैसलों को आरबीआई ने खारिज कर दिया है। इससे पता चलता है कि मोदी सरकार ने देश में अपरिपक्व तरीके से नोटबंदी कर आपातकाल लगाया। था।  मायावती ने भी कहा  है कि देश की सभी पार्टी ने मोदी सरकार पर राफेल सौदे में घोटाला करने का आरोप लगाया है, लेकिन बीजेपी और मोदी सरकार इस मामले में कोई ठोस जवाब नहीं दे सकी है। इससे लगता है कि ये लोग भ्रष्टाचार को बढ़ाने के साथ ही अपनी कमियों को दबाने में माहिर हो चुके हैं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मायावती ने बीजेपी पर पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी के नाम के सहारे सियासत करने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि बीजेपी नेतओं ने अटल जी के जिंदा रहते उनके विचारों और आदर्शों का पालन नहीं किया और अब उनके निधन के बाद उनका नाम लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी शासित राज्यों की सरकारें और केंद्र की मोदी सरकार जनता का ध्यान बांटने के लिए हर रोज नए मुद्दे की तलाश में रहती है।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े