img

UPDATE-गुजरात में हिंसा के बाद उत्तर भारतीयों का पलायन जारी

गुजरात- साबरकांठा जिले में 14 महीने की बच्ची के साथ कथित बलात्कार की घटना से उपजी हिंसा के बाद यूपी-बिहार के लोगों पलायन जारी है। इन हमलों और डराने के आरोप में 431 को लोग गिरफ्तार किया जा चुका है। और 57 मामले दर्ज किए जा चुके हैं।

जिन जिलों में सबसे ज्यादा केस दर्ज हुए उनमें महेसाणा में 17, साबरकांठा जिले में 11 और अहमदाबाद में 12 केस दर्ज हुए हैं। हालांकि मुख्यमंत्री रूपाणी का कहना है कि पुलिस ने स्थिति पर काबू पा लिया है। और पिछले 48 घंटों में हिंसा की कोई घटना नहीं घटी है। इस बीच यूपी और बिहार के मुख्यमंत्रियों योगी आदित्यनाथ और नीतीश कुमार और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने रूपाणी से बात की और हमलों को लेकर चिंता जताई।

उत्तर भारतीयों पर हमले को लेकर कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर की ठाकोर सेना पर हिंसा भड़काने और धमकी देने के आरोप लग रहे हैं। सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें अल्पेश ठाकोर उत्तर भारतीयों को धमकी देते नजर आ रहे हैं। वहीं अल्पेश ठाकोर ने इन आरोपों को सिरे से नकार दिया है। अल्पेश ठाकोर गुरुवार को एक सद्भावना अनशन भी करने वाले हैं।

गुजरात में बिहार के लोगों के साथ हो रही हिंसा और पलायन पर बिहार के एडीजी के बयान से नया मोड़ आ गया है। उनका कहना है की गुजरात से जो फीड बैक मिला है उसके मुताबिक ज़्यादातर लोग दिवाली और छठ का पर्व मनाने के लिए लौट रहे हैं। बिहार एडीजी एस के सिंघल ने कहा, ''पर्व का समय आ रहा है और पर्व की वजह से भी लोग लौट रहे हैं। जैसा हमें फीड बैक दिया गया गुजरात प्रशासन की तरफ से उसी के आधार पर ये बात कह रहा हूं। ये जो लोग आते नज़र आ रहे हैं उसमें अधिकांश लोग हर साल की तरह पर्व मनाने आ रहे हैं।''

गुजरात में रह रहे उत्तर भारतीयों और वहां के स्थानीय लोगों के बीच 28 सितंबर को 14 महीने की बच्ची के साथ दुष्कर्म की घटना के बाद तनाव हो गया।  इस मामले में बिहार के एक मजदूर को गिरफ्तार किया गया था। घटना के बाद से उत्तर भारतीयों के खिलाफ नफरत वाले मैसेज वायरल होने लगे। इसके बाद उत्तर भारतीयों पर हमले शुरू हो गए। गांधीनगर, मेहसाणा, साबरकांठा, पाटन और अहमदाबाद में हमले हुए। इसके बाद कई उत्तर भारतीय मजदूरों ने गुजरात से पलायन करना शुरु कर दिया।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े