img

युवा टीवी पत्रकार की अपहरण के बाद हत्या

त्रिपुरा के एक स्थानीय न्यूज चैनल के पत्रकार की अपहरण के बाद हत्या कर दी गई। युवा पत्रकार का नाम शांतनु भौमिक बताया जा रहा है, वे गुरुवार उस समय से गायब थे जब वो पश्चिमी त्रिपुरा जिले में इंडिजीनस पीपुल्स फ्रंट आफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) के आंदोलन को कवर करने गए थे। पुलिस अधीक्षक अभिजीत सप्तर्षि ने जानकारी दी कि ‘दिनरात’ न्यूज चैनल के पत्रकार शांतनु भौमिक मंडई में आईपीएफटी के सड़क जाम तथा आंदोलन को कवर करने गए थे कि उन पर पीछे से हमला करके उनका अपहरण कर लिया गया। बाद में भौमिक का पता लगा तो उनके शरीर पर चाकू से हमले के कई निशान थे। उन्हें तत्काल अगरतला मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया जहां डक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। 

पुलिस अधिकारी ने बताया कि मंडई में स्थिति तनावपूर्ण है और क्षेत्र में पहले से ही धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गयी है। वहां अतिरिक्त पुलिस बल भेजे जा रहे हैं। उल्लेखनीय है कि 19 सितंबर को माकपा के जनजातीय प्रकोष्ठ गण मुक्ति परिषद के करीब 100 कार्यकर्ता अगरतला से करीब 40 किलोमीटर दूर खोवै जिले के छनखोला क्षेत्र में आईपीएफटी के साथ झड़प में घायल हो गए थे। पुलिस के मुताबिक 144 के आदेश के बावजूद इकट्ठी हुई भीड़ को हटाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया. इसी हंगामे के बीच शांतनु पर आईपीएफटी कार्यकर्ताओं ने हमला किया. सीपीआई (एम) का भी कहना है कि शांतनु पर आईपीएफटी के कार्यकर्ताओं ने हमला किया था।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

  • काश, समय से पहले ना गए होते कांशीराम....

    कांशीराम जी की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष...ये कहने में शायद किसी को कोई ऐतराज नहीं होगा कि बाबा साहब के बाद कांशीराम जी बहुजनों के सबसे बड़े नेता थे। और उनकी असमायिक मौत से बहुजन समाज का जो नुकसान…

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े