img

खाप पंचायत पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा आप कौन होते हैं दो बालिगों को शादी करने से रोकने वाले

व्यस्क प्रेमी जोड़ों को शादी करने से रोकने के लिए उन हमलों पर सख्त रूख अपनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने खाप पंचायतों को फटकार लगाई। सुप्रीम कोर्ट ने हिदायत दी कि खाप पंचायत खुद को रखवाला घोषित न करे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर दो वयस्क शादी करते हैं, तो कोई तीसरा व्यक्ति उसमे दखल नहीं दे सकता. चाहे वह परिवार वाले हो, समाज वाले हो या फिर कोई और। तो फिर आप कौन होते हो उनको शादी करने से रोकने वाले ?

सोमवार को चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ऑनर किलिंग रोकने के लिए गाइडलाइंस के लिए डाली गई याचिका पर सुनवाई कर रही थीं। इस बेंच में एएम खानविलकर और डीवाई चंद्रचूड़ भी शामिल थे।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोई भी व्यक्तिगत रूप से या सामूहिक रूप से या फिर संगठन के तौर पर शादी में दखल नहीं दे सकता। सुप्रीम कोर्ट ने खाप पंचायत के वकील से कहा कि आप कौन होते हैं दो वयस्कों की शादी में दखल देने वाले, कानून अपने हिसाब से काम करेगा, आप ऐसे कपल को लेकर चिंता मत कीजीए, और अपने विवेक का ध्यान रखिए।

सुप्रीम कोर्ट ने खाप पंचायतों और प्रेम विवाह करने वालों पर होने वाले हमले रोकने में नाकामी को लेकर केंद्र और राज्य सरकार को भी फटकार लगाई, कोर्ट ने केंद्र सरकार से इस संबंध में उठाए गए कदमों पर जवाब तलब किया, कोर्ट ने कहा कि अगर केंद्र खाप पंचायतों को बैन करने में उचित क़दम नहीं उठाता है तो फिर कोर्ट कार्रवाई करेगा। वहीं खाप मामले में अगली सुनवाई 16 फरवरी को होगी।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े