img

भागलपुर की रैली में लालू यादव और तेजस्वी ने नीतीश और सुशील मोदी पर साधा निशाना, कहा ‘ व्यापम से भी बड़ा घोटाला है सृजन ‘ सीबीआई पर भी उठाए सवाल

बिहार- भागलपुर, 10 सितंबर 2017, लालू यादव और उनके दोनों बेटे तेजस्वी और तेज प्रताप रैली को संबोधित करने के लिए ट्रेन के रास्ते भागलपुर पहुंचे। बिहार में अब तक के सबसे बड़े घोटाले को लेकर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने ‘सृजन के दुर्जनों का विसर्जन’ रैली  में नीतीश और सुशील मोदी को आड़े हाथों लिया। भागलपुर के सेंडिस कंपाउंड में लालू यादव, तेजस्वी, तेजप्रताप के साथ राजद के दर्जनों विधायक और नेता रैली में शामिल हुए।

रैली को संबोधित करते हुए बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि हमने संकल्प लिया था कि भागलपुर से ही रैली के माध्यम से घोटाले की सच्चाई को उजागर करेंगे और सृजन के दुर्जनों का विसर्जन करेंगे। उन्होंने बताया कि किस तरह घोटाले के जरिए सरकारी राशि को चूना लगाया जा रहा था, इस बात की जानकारी बिहार के मुख्यमंत्री को थी लेकिन वह चुप्पी साधे बैठे थे। इस रैली के माध्यम से हम नीतीश कुमार, सुशील मोदी समेत गिरिराज सिंह जैसे घोटालेबाजों का विसर्जन करने आए हैं और यहां की जनता को यह बताने आए हैं कि इन लोगों के संरक्षण में कैसे घोटाले को अंजाम दिया जा रहा था।

तेजस्वी ने कहा कि इस घोटाले में बिहार झारखंड के कई सफेदपोश लोगों के साथ साथ बड़े नेता भी शामिल हैं। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा महा गठबंधन की सरकार इसलिए तोड़ दी गई क्योंकि उन्हें घोटाला करने के लिए कोई नया पार्टनर नहीं मिल रहा था। नीतीश कुमार अपनी अंतरात्मा की दुहाई देते हुए लगातार बिहार की जनता को ठगने का काम कर रहे हैं। किस तरह सफेदपोश लोगों के संरक्षण में 2006 से ही इस घोटाले को अंजाम दिया जा रहा था लेकिन किसी ने कार्रवाई नहीं की इस से साफ जाहिर होता है कि इस घोटाले में बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री और डिप्टी सीएम संलिप्तता रही है। जब इस मामले को राजद के द्वारा उजागर करने की कोशिश की गई तो हम लोगों को चुप कराने के लिए हमारे पीछे सीबीआई ,इनकम टैक्स ,ईडी को लगा दिया गया। हम सीबीआई अधिकारियों से यह पूछना चाहते हैं कि सीबीआई ने इस घोटाले की जांच तो की लेकिन नीतीश, मोदी या फिर गिरिराज सिंह के खिलाफ घोटाले में केस दर्ज क्यों नहीं किया?
  
लालू यादव ने नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि मुख्यमंत्री को इस घोटाले के बारे में पूरी जानकारी थी, वह सबकुछ जानते हुए भी चुप्पी साधे रहे। नीतीश कुमार को यह बताना चाहिए कि उदय मिश्रा कौन है, वह भागलपुर में मिश्रा के घर क्यों जाते थे? सुशील मोदी पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि उनकी बहन रेखा मोदी सृजन की पार्टनर थी लेकिन अब तक ना तो सुशील मोदी और ना रेखा मोदी की गिरफ्तारी हुई है? यहां तक कि रवि जलान की भी गिरफ्तारी नहीं हुई जबकि उसके खिलाफ घोटाले के कई सबूत हैं।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

  • काश, समय से पहले ना गए होते कांशीराम....

    कांशीराम जी की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष...ये कहने में शायद किसी को कोई ऐतराज नहीं होगा कि बाबा साहब के बाद कांशीराम जी बहुजनों के सबसे बड़े नेता थे। और उनकी असमायिक मौत से बहुजन समाज का जो नुकसान…

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े