img

सीवर में मौतों के विरोध में सरकार के खिलाफ हल्ला बोल

नई दिल्ली- मंगलवार को जंतर-मंतर पर सीवर में सफाईकर्मियों की मौत के विरोध में प्रदर्शन किया गया। पिछले सात दिनों में देश के विभिन्न हिस्सों में सीवर की सफाई के दौरान 11 सफाईकर्मियों की मौत की खबर आ चुकी है। प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे मैग्सेसे पुरस्कार विजेता विल्सन बैजवाड़ा ने सरकार पर  जमकर हमला बोला।

सीपीएम की नेता वृंदा करात ने कहा कि केंद्र सरकार के साथ-साथ दिल्ली सरकार को घेरते हुए कहा कि सफाईकर्मियों को महीनों वेतन देर से दिया जाता है, और सफाई अभियान का ढोंग किया जाता है। 

ऑल इंडिया प्रगतीशील महिला एसोसिएशन की राष्ट्रीय सचिव कविता कृष्णन ने मोदी सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि इन मौतों की जिम्मेदारी कांट्रेक्टर या ठेकेदारों पर डालकर सरकार अपना पल्ला नहीं झाड़ सकती।

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए योगेन्द्र यादव ने कहा कि ये सफाईकर्मियों की नहीं संविधान की आत्मा की मौत है। और ऐसा तब हो रहा है जब सरकार ने इसे अवैध घोषित कर रखा है। इसे सिर्फ सरकार पर दोष देकर खत्म नहीं किया जा सकता। इसे खत्म करने के लिए इस समाज को भी अपनी भूमिका निभानी होगी।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

1 Comments

  •  

    Entering into sewer main hole must be banned completely,the person enticing and forcing innocent people to enter into sewer hole must be punished severly.It is totally an inhuman activity. People entering into sewer hole must not obey the such orders and report to the higher ups and follow his complaint.

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े