img

बाबा साहब अंबेडकर युनिवर्सिटी (BBAU) में सवर्ण शोधार्थी ने दलित प्रोफेसर को पीटा

लखनऊ- बाबा साहब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय (बीबीएयू) में बेहद निंदनीय मामला सामने आया है जहां अर्थशास्त्र विभाग के एक शोध छात्र ने प्रोफेसर को पीटने का आरोप है। प्रोफेसर के चेहरे व शरीर कई हिस्सों पर चोटें आई हैं। बताया जा रहा है कि आरोपी छात्र संजय उपाध्याय एबीवीपी से जुड़ा है। 

प्रोफेसर पर छात्र द्वारा हमला किए जाने की जानकारी होते ही अन्य विभागों के शिक्षक और छात्र मौके पर पहुंचे और पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने पीड़ित प्रोफेसर की तहरीर के आधार पर आरोपी छात्र के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार विवि के अर्थशास्त्र विभाग से छात्र संजय उपाध्याय पिछले पांच वर्षों से प्रो. एलसी मलैया के अंडर में पीएचडी कर रहा है। प्रो. एलसी मलैया विभाग में अपने कमरे में बैठे हुए थे। प्रो. मलैया के मुताबिक दोपहर करीब तीन बजे संजय वहां आया और अभद्रता से बातचीत करने लगा। कुछ देर बाद वह गाली गलौज पर उतर आया। जब प्रो. मलैया ने विरोध किया तो उसने डंडे से उन्हें पीटना शुरू कर दिया। शोर-शराबा सुनकर जब तक शिक्षक व कर्मचारी वहां पहुंचते तब तक संजय वहां से फरार हो चुका था।

इससे पहले ऐसा ही मामला लखनऊ विश्वविद्यालय में सामने आया था जहां लखनऊ विश्वविद्यालय में प्रॉक्टोरियल टीम के सदस्यों को बुधवार को परिसर में दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया था। उन पर पथराव भी हुआ जिससे 12 से ज्यादा शिक्षक चोटिल हो गए थे। उपद्रवियों ने कुलपति प्रो. एसपी सिंह को भी नहीं बख्शा और उनके साथ भी बदसलूकी की गई थी। घटना के विरोध में विश्वविद्यालय को बंद कर दिया गया था।

लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा कुछ पूर्व छात्रों को नए शैक्षिक सत्र में दाखिला देने पर रोक लगाई गई थी। इसके विरोध में सोमवार से विश्वविद्यालय में भूख हड़ताल और विरोध प्रदर्शन चल रहा था। बीबीएयू के प्रॉक्टर प्रो. राम चंद्रा ने बताया कि आरोपी छात्र के खिलाफ आशियाना थाने में रिपोर्ट दर्ज करवा दी गई है। पुलिस ने उसे गिरफ्तार भी कर लिया है। यह घटना सोशल मीडिया के जरिए बहुत तेजी से वायरल हुई थी। 

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े