img

एक और दलित बच्चे ने रचा कीर्तिमान

राजस्थान के पुष्पराज भारती ने दलित समाज को गौरवांवित किया है, पुष्पराज ने राजस्थान बोर्ड के बारहवीं विज्ञान वर्ग में परीक्षा में 98 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। पहली बार माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड ने राज्‍य स्‍तरीय व जिला स्‍तरीय मेरिट सूची जारी नहीं की है। पुष्पराज ने जहां गणित में 100 वहीं हिंदी में 100, इंग्लिश में 94फिजिक्स में 98 और कमेस्ट्री में 98 अंक प्राप्त किए हैं। कुल मिलाकर पुष्पराज ने 500 अंकों में से 490 अंक प्राप्त किए हैं। दसवीं बोर्ड परीक्षा में भी पुष्पराज ने 94.33 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे।  पुष्पराज विराटनगर जयपुर व मूलत: डहरा, थानागाजी के रहने वाले हैं, पुष्पराज के पिताजी राजकीय माध्यमिक विद्यालय पापड़ा, विराटनगर में सरकारी शिक्षक हैं। पुष्‍पराज भारती के पिता हरिराम रैगर ने बताया कि उनके घर पर पिछले 6 वर्षों से टीवी नहीं देखा गया है, और शहर में रहने के बावजूद भी उनके बच्चे नियमित तरीके से दिनचर्या का पालन करते हैं, सुबह चार बजे उठने के साथ ही सुबह की सैर, व्यायाम को नियमित रूप से करते हैं, जो उनके मानसिक संतुलन को बनाए रखता हैं। पुष्पराज ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता पिता और घर के पूरे माहौल को दिया । पुष्पराज ने बताया कि वह आगे चलकर प्रशासनिक सेवाओं की तैयारी करके देश और समाज के लिए कुछ करना चाहता है। पुष्पराज की माता श्री मंजू देवी गृहणी हैं। उन्होंने बताया कि दोनों बच्चों को पढ़ने के लिए कभी भी विवश नहीं किया। बच्चों को घर की किसी भी जिम्मेदारी से दूर रखा गया। बच्चों का जब मन हुआ तभी पढ़ाई की और जब मन हुआ तब सोए। पढ़ाई के लिए अभिवावकों की तरफ से कोई अतिरिक्त दबाव नहीं डाला गया। पुष्पराज की पढ़ाई के अतिरिक्त चित्रकारी में भी रूचि हैं।  इसके पहले पुष्पराज का सिलेक्शन आईआईटी मेंस में भी हो गया था और आगामी दिनों में एडवांस की परीक्षा भी होने वाली है लेकिन पुष्पराज ने बातचीत में बताया कि उनका रुझान इंजीन्यरिंग की तरफ नहीं हैं। उन्होंने मात्र परीक्षा इसलिए दी की परीक्षा में प्रश्न पत्र किस दृष्टिकोण पर आधारित होते हैं। हैरानी की बात ये है कि पुष्पराज ने 10वीं, 12वीं और आईआईटी मेंस परीक्षा को बिना किसी कोचिंग सेंटर को ज्वाइन किए उत्तीर्ण किया है। हम पुष्पराज के सुनहरे भविष्य की कामना करते हैं और पुष्पराज और उनके परिवार को बधाई देते हैं।  

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े