img

मोदी कैबिनेट में तीसरा फेरबदल, 4 मंत्रियों को प्रमोशन, 9 नए चेहरोंं को मिली जिम्मेदारी

नई दिल्ली- तीन साल में तीसरी बार रविवार को मोदी कैबिनेट का विस्तार हो गया है। इस दौरान कुछ मंत्रियों का प्रमोशन किया गया तो कुछ नए सांसदों को मोदी कैबिनेट में जगह दी गई। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई । इससे पहले मोदी कैबिनेट में फेरबदल 9 नवंबर 2014 को हुआ था। और दूसरी बार 5 जुलाई 2016 को फेरबदल किया गया था। 2019 के लिए पीएम मोदी का यह अंतिम विस्तार माना जा रहा है। 

चार मंत्रियों का प्रमोशन हुआ, जिनमें धर्मेंद्र प्रधान, पीयूष गोयल, निर्मला सीतारमण और मुख्तार अब्बास नकवी के अच्छे काम के लिए उनका प्रमोशन हुआ। बाकी जिन नौ लोगों ने शपथ ली इसमें अलफोन्स कन्नाथनम, डॉ सत्यपाल सिंह, गजेंद्र सिंह शेखावत, हरदीप सिंह पुरी, राज कुमार सिंह, अनंत कुमार हेगड़े, वीरेंद्र कुमार, अश्विनी कुमार चौबे, शिव प्रसाद शुक्ला शामिल हैं।

प्रमोशन मिलने वालों में सबसे पहले धर्मेंद्र प्रधान ने शपथ ली, अभी वे पेट्रोलियम राज्यमंत्री हैं. उड़ीसा में बीजेपी का बड़ा चेहरा हैं। पीयूष गोयल ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली, पेशे से सीए हैं बीजेपी के कोषाध्यक्ष रहे हैं, इनके पिता वेद प्रकाश गोयल अटल सररकार में मंत्री थे। निर्मला सीतारमण ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली, अभी वाणिज्य राज्य मंत्री हैं। मुख्तार अब्बास नकवी ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली, ये वाजपेयी सरकार में मंत्री रह चुके हैं। बीजेपी का मुस्लिम चेहरा हैं।


शिवप्रताप शुक्ल ने मंत्री पद की शपथ ली,  उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं, इन्होंनें यूपी सरकार में  8 सालों तक कैबिनेट मंत्री के तौर पर काम किया है। अश्वनी चौबे ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली, बिहार सरकार में 8 सालों तक कैबिनेट मंत्री रहे हैं, बक्सर बिहार से लोकसभा सांसद हैं और आपातकाल के दौरान इन्हें जेल भी भेजा गया था। वीरेंद्र कुमार ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली,  ये भी जेपी मूवमेंट में सक्रिय रहे और MISA के दौरान 16 महीने जेल में बिताए हैं, इन्होनें अर्थशास्त्र में एम.ए. की डिग्री हासिल की है. साथ ही चाइल्ड लेबर में पीएचडी डिग्री होल्डर हैं, मध्यप्रदेश से आते हैं, लगातार छठी बार सांसद चुने गए हैं। अनंत कुमार हेगड़े ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली, कर्नाटक से सांसद हैं, लगातार पांच बार सांसद चुने गए हैं।

बिहार के आरा से सांसद आर के सिंह ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली, आरा से लोकसभा सांसद हैं. पूर्व आईएएस अधिकारी (1975 बैच) रह चुके हैं, आर के सिंह लालकृष्ण आडवाणी को गिरफ्तार करने बाद काफी चर्चा में आए थे। हरदीप सिंह पुरी ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली, पूर्व आईएफएस अधिकारी (1974 बैच) रहे हैं, विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा के क्षेत्र में इनका अच्छा खासा अनुभव है, हरदीप जे पी मूवमेंट के दौरान भी सक्रिय रहे हैं और आईएफएस बनने से पहले दिल्ली के सेंट स्टीफेंस कॉलेज में पढ़ा भी चुके हैं, अभी किसी सदन के सदस्य नहीं हैं।
   
गजेंद्र सिंह शेखावत ने राज्यमंत्री पद ली शपथ ली, जोधपुर से सांसद हैं, सोशल मीडिया पर सक्रिय रहते हैं। यूपी के बागपत से सांसद सत्यपाल सिंह ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली, ये 1980 बैच के आईपीएस अधिकारी रह चूके हैं। ये मुंबई नागपुर और पुणे के कमिश्नर ऑफ पुलिस रह चुके हैं। एलफोंस कननथनम ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली,  ये 1979 बैच के आईएएस अधिकारी रह चुके हैं, वहीं डीडीए के कमिश्नर रह चुके हैं, ‘मेकिंग ए डिफरेंस’ इनकी बेस्टसेलर किताब रही है, अभी किसी सदन के सदस्य नहीं हैं।      

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े