img

बीएसपी,एसपी,आरएलडी गठबंधन ने देवबंद से फूंका चुनावी बिगुल, मायावती,अखिलेश,अजित ने की जनता से बीजेपी को सत्ता से बाहर करने की अपील

मिशन 2019 को फतह करने के लिए बीएसपी-एसपी और आरएलडी गठबंधन ने अपने चुनावी अभियान का आगाज कर दिया है। जिसकी शुरुआत रविवार को पश्चिमी यूपी में सहारनपुर के देवबंद से तीनों पार्टियों की पहली संक्युत चुनावी रैली के जरिये हुई। जिसमें बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती, एसपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और आरएलडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजित सिंह ने पहली बार मंच साझा करते हुए एक स्वर में केंद्र की मोदी सरकार को उखाड़ने का आह्वान किया।    
 


लोकसभा चुनाव-2019 के लिए बीएसपी,एसपी और आरएलडी ने रविवार को अपने चुनाव प्रचार अभियान का बिगुल फूंकते हुए बीजेपी के साथ-साथ कांग्रेस पर जमकर वार किया। सहारनपुर के देवबंद में हुई इस संयुक्त चुनावी रैली को सबसे पहले बीसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने संबोधित किया। मयावती ने सबसे पहले रैली में उमड़े जनसमूह का आभार प्रकट किया और फिर बीजेपी और पीएम मोदी पर तीखे हमले किए। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के चौकीदार अभियान को नाटकबाजी बताया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी और उनकी पार्टी के नेता राजनीतिक लाभ पाने के लिए चौकीदार बनने का नाटक कर रहे हैं। लेकिन इस बार बीजेपी को इनके छोटे-बड़े चौकीदारों की ये नाटकबाजी भी नहीं बचा पाएगी।    
 

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा कि गठबंधन की इस रैली में उमड़ी भारी भीड़ को देखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नींद उड़ जाएगी। उन्होंने कहा कि इस बार लोकसभा चुनाव में बीजेपी केंद्र की सत्ता से जरूर बाहर हो जाएगी और गठबंधन की सरकार  का आगमन होगा।  

मायावती ने अपने संबोधन में ये भी कहा कि बीजेपी और मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इनकी राष्ट्र भक्ति का भंडाफोड़ हो चुका है। ये लोग चुनाव का कार्यक्रम घोषित होने वाले दिन तक भी हवा हवाई घोषणा करते रहे, जो इन्होंने पुलवामा हमले के दिन तक जारी रखी।  

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने मोदी सरकार पर नोटबंदी और जीएसटी को लेकर भी तीखा प्रहार किया। उन्होंने कहा कि देश में नोबंदी का फैसला जल्दबाजी में लिया गया था।, जिससे देश की आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर हुई। इसके साथ ही नोटबंदी और जीएसटी से गरीबी और बेरोजगारी बढ़ी है।  इतना ही नहीं इससे भ्रष्टाचार कम नहीं हुआ, बल्कि बढ़ा ही है।   मायावती ने किसानों के मुद्दों को लेकर भी मोदी सरकार को घेरते कहा कि यूपी में हमारी सरकार ने किसानों समस्याओं का समाधान कराया था, लेकिन इनके राज में किसानों बेहद परेशान और बेहाल है। उन्होंने किसानों को भरोसा देते हुए कहा कि यदि हमें केंद्र में आने का मौका मिला तो किसानों को गन्ना बकाया फिर नहीं होगा।
    
मायावती ने बीजेपी के साथ-साथ कांग्रेस पर भी हमला किया। उन्होंने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस को चुनाव के वक्त ही गरीबों की याद आती है। सबका साथ-सबका विकास सिर्फ जुमलेबाजी है। मायावती ने कांग्रेस की न्याय योजना के वादे को लेकर कहा कि कांग्रेस गरीबों का मजाक उड़ाती है।

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने इस रैली में मुस्लिम समाज के लोगों को सावधान करते हुए कहा कि इस बार वो अपना वोट सोच समझकर दें और अपने वोट को बंटने न दे। इसके साथ ही मायावती ने रैली आए लोगों से कहा कि आपको डॉक्टर भीमराव आम्बेडकर, राम मनोहर लोहिया और चौधरी चरण सिंह के सपनों को पूरा करना है। मायावती ने आरोप लगाया कि केंद्र की पिछली कांग्रेस सरकार की ही तरह मौजूदा बीजेपी सरकार ने दलितों, पिछड़ों, मुस्लिम और अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों का कोई खास विकास नहीं किया। पूरे देश में आरक्षण का कोटा खाली पड़ा है। पहले कांग्रेस और अब बीजेपी की सरकारों ने निजी क्षेत्र में आरक्षण की व्यवस्था किये बगैर निजी क्षेत्र के जरिये ही काम कराकर धन्नासेठों और पूंजीपतियों को ही काम दिया जा रहा है।

मायावती ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार में भ्रष्टाचार काफी हद तक बढ़ा है और रक्षा सौदे भी इससे अछूते नहीं रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के राज में बोफोर्स और बीजेपी सरकार में राफेल मामला इसका सुबूत है। मायावती ने कहा कि अगर बीजेपी को यूपी से हटाना है तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ—साथ यूपी के सीएम योगी  को भी भगाना होगा। जिसके बाद बीजेपी के जातिवादी, संकीर्ण, साम्प्रदायिक, तानाशाही और अन्याय करने वालों से छुटकारा मिल सकेगा। मायावती ने कहा कि अगर केन्द्र में हमारी सरकार बनी तो वो अति गरीबी परिवारों को 6 हजार रुपये देने के बजाय, उन्हें सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्रों में स्थायी रोजगार देने की पूरी व्यवस्था करेंगी।  



अखिलेश यादव ने अपने संबोधन में कहा-
बीएसपी-एसपी और आरएलडी गठबंधन की इस पहली संयुक्त चुनावी रैली को एसपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी संबोधित किया। उन्होंने बीजेपी पर देश में नफरत फैलाकर राज करने का आरोप लगाया। अखिलेश यादव ने कहा कि अंग्रेजों ने लोगों को बांटकर देश पर राज किया था, लेकिन उससे ज्यादा अगर कोई हमें बांट रहा है तो वो बीजेपी के लोग हैं।  

एसपी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए जनता से कहा कि मोदी पहले आपके बीच में चायवाला बनकर आए। जाने कितने लोगों ने अच्छे दिन, 15 लाख रुपये और करोड़ों नौकरियों के वादे पर भरोसा कर लिया। और फिर चुनाव आया तो कहा जा रहा है कि मैं भी चौकीदार। लेकिन इस बार चुनाव में गरीब, दलित, अल्पंसख्यक मिलकर इनके छोटे-बड़े चौकीदार की चौकी छीनने का काम करेंगे।

अखिलेश यादव ने पीएम मोदी पर हमला करते हुए कहा कि महागठबंधन को महामिलावट और सराब बोलने वाले लोग सत्ता के नशे में हैं। उन्होंने कहा कि ये महामिलावट का नहीं महापरिवर्तन का गठबंधन है। ये नई सरकार देने और नया प्रधानमंत्री बनाने का गठबंधन है। ये गठबंधन चौधरी चरण सिंह की विरासत को आगे बढ़ाने जा रहा है। कभी ये गठबंधन एसपी संस्थापक मुलायम सिंह यादव और बीएसपी संस्थापक कांशीराम ने किया था। यही सपना आम्बेडकर और लोहिया ने देखा था। और उसे ये गठबंधन पूरा करेगा।  

अखिलेश यादव ने बीजेपी और कांग्रेस को एक जैसी पार्टी बताया। उन्होने कहा कि हम अपील करते हैं कि ये महागठबंधन तो बदलाव लाने के लिए है, मगर कांग्रेस बदलाव नहीं लाना चाहती। सोचिये देश के लिए कौन सोच रहा है। उन्होंने गन्ना किसानों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पश्चमी यूपी के लोगों ने गन्ना पैदा करके पूरे देश को मिठास से जोड़ने का काम किया। आपके खेतों में गन्ना खड़ा रहे, मगर सरकार को कोई परवाह नहीं है। पीएम कहते हैं कि दुनिया को हमारे देश पर गर्व है। लेकिन हमारा देश हर चीज में पीछे चला जा रहा है। दुनिया के बाकी देश आगे बढ़ रहे हैं।  



अजित सिंह का ने कहा-

बीएसपी-एसपी और आरएलडी गठबंधन की इस पहली संयुक्त चुनावी रैली को आरएलडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजित ने भी संबोधित किया। उन्होंने बीजेपी की नीतियों पर सवाल उठाते हुए कहा कि बीजेपी सिर्फ दंगे की वजह से ही सत्ता में आई थी, लेकिन इस बार गरीबों के वोट की ताकत  बीजेपी को सत्ता से बाहर कर देगी। उन्होंने कहा कि ये चुनाव बहुत महत्वपूर्ण है जो आगे के कई सालों का भविष्य तय करेगा।

अजीत सिंह ने ये भी कहा कि बीजेपी ने सीबीआई का इस्तेमाल कर विपक्षी नेताओं को दबाव में लाने का प्रयास किया, लेकिन उनकी ये योजना सफल नहीं हो सकी। अब उनकी ताकत खत्म होने जा रही है।  

आरएलडी प्रमुख ने कहा कि पश्चिमी यूपी की अर्थव्यवस्था गन्ने पर चलती है। गन्ने का दाम मिलेगा, तो मजदूर को रोटी मिलेगी, व्यापारी का काम चलेगा, मिस्त्री को काम मिलेगा, स्कूल चलाने वालों को बच्चों की फीस मिलेगी। गन्ने का दाम नहीं मिला तो यहां की अर्थव्यवस्था ठप हो जाएगी। 
अजित सिंह ने पीएम मोदी पर झूठ बोलने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने युवकों को रोजगार देने की बजाय कह दिया पकौड़ा तलो। काला धन लाने, 15 लाख रुपये खातों में भेजने की बात कही थी। सिर्फ खाते खुलवाए, पैसा नहीं दिया।  

आपको बता दें कि गठबंधन की इस रैली में आरएलडी नेता जयंत चौधरी भी मौजूद रहे। इसके अलावा मायावती के भतीजे आकाश आनंद की मंच पर उपस्थिति आकर्षण का केंद्र रही। यहां बता दें कि रैली के दौरान आकाश आनंद का परिचय भी कराया गया।  

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े