img

लोकसभा चुनाव 2019 - चुनाव आयोग ने कहा तय समय पर ही होंगे लोकसभा चुनाव

नई दिल्ली- केंद्रीय चुनाव आयोग ने साफ किया है कि देश में लोकसभा चुनाव अपने तय समय पर ही होंगे। शुक्रवार को यहां योजना भवन में हुई प्रेस कान्फ्रेंस में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि चुनाव कार्यक्रम तय करते समय सुरक्षा बलों की उपलब्धता, उन्हें लाने ले जाने के लिए परिवहन की व्यवस्था, महत्वपूर्ण त्योहार, आयोजन व अवसर, वार्षिक परीक्षाएं आदि के बाबत आयोग पिछले कई महीने से लगातार बैठकें करता रहा है।

इसी क्रम में मई की शुरुआत में रमजान के महीने का भी आयोग ने संज्ञान लिया है। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए ही लोकसभा चुनाव करवाए जाएंगे। उत्तर प्रदेश में पिछले लोकसभा चुनाव छह चरणों में करवाए गए थे। इस बार के चुनाव कार्यक्रम के बारे में मुख्य सचिव, डीएम, एसपी आदि भी पूछा गया है जो जानकारी मिली है उसी के अनुरूप चुनाव कार्यक्रम तय किया जाएगा।

प्रदेश में लोकसभा चुनाव की अब तक हुई तैयारियों का जायजा लेने चुनाव आयोग की टीम बीती 27 फरवरी की शाम लखनऊ आई थी। पिछले दो दिनों के दरम्यान आयोग ने राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों, मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के अफसरों, प्रदेश के सभी मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों, पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठकें कीं। शुक्रवार को आयोग ने पहले केंद्र सरकार की एजेंसियों आयकर, रेलवे, सेण्ट्रल एक्साईज, कस्टम आदि के अफसरों से और फिर प्रदेश के मुख्य सचिव डा.अनूप चन्द्र पाण्डेय, डीजीपी ओपी सिंह आदि के साथ चुनाव तैयारियों की समीक्षा की और आवश्यक निर्देश दिए।

विजिल ऐप लांच होगा
मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि लोकसभा चुनाव के दरम्यान कोई भी नागरिक किसी भी चुनाव क्षेत्र के बाबत आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन व अन्य गड़बड़ियों की शिकायतें इस ऐप के जरिए दर्ज करवा सकेगा। सरकारी मशीनरी को ऐसी शिकायतों पर त्वरित कार्रवाई करनी होगी।

उसके बाद हाल ही में मध्य प्रदेश, राजस्थान आदि पांच राज्यों के चुनाव में भी इसको सक्रिय किया गया और उस दरम्यान इस एप पर करीब 28000 शिकायतें दर्ज हुई थीं। उत्तर प्रदेश में पहली बार इस बार के लोकसभा चुनाव में इसका इस्तेमाल किया जाएगा।

प्रत्याशियों को पत्नी, संतान की सम्पत्ति बतानी होगी
अरोड़ा ने बताया कि इस बार चुनाव लड़ने वाले प्रत्येक प्रत्याशी को अपने नामांकन पत्र के साथ फार्म संख्या -26 में दिये जाने वाले शपथ पत्र में खुद की ही नहीं बल्कि अपनी पत्नी, संतान व आश्रितों की देश व विदेश में चल-अचल सम्पत्ति की पूरी जानकारी देनी होगी। 

यूपी में जरूरत से ज्यादा शस्त्र लाइसेंस
यूपी में लोकसभा चुनाव करवाए जाने के बाबत आयोग के समक्ष पेश आने वाली चुनौतियों के बारे में पूछे गये एक सवाल के जवाब में मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि उत्तर प्रदेश एक राज्य नहीं बल्कि एक देश की तरह है। सबसे ज्यादा लोकसभा सीटें इसी राज्य में ही हैं। यहां चुनाव करवाने में कई तरह की

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े