img

जय शाह ने 'द वायर' के ख़िलाफ दायर किया आपराधिक मानहानि का मुकदमा

 अहमदाबाद- बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय ने न्यूज पोर्टल ‘द वायर’ के खिलाफ मेट्रोपोलिटन अदालत में आपराधिक मानहानि का मुकदमा दायर किया। दरअसल न्यूज पोर्टल ने एक खबर जय शाह की कंपनी टेंपल इंटरप्राजेज पर आरोप लगाए थे कि 2014 में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद जय की कंपनी के कारोबार में बेतहाशा इज़ाफ़ा हुआ है।


शाह ने अपनी याचिका में शर्मनाक, बेहूदा, भ्रमित, अपमानजनक, निंदात्मक और कई अपमानजनक टिप्पणियों वाले एक लेख के जरिए शिकायतकर्ता की मानहानि करने और उसकी प्रतिष्ठा बिगाड़ने के खिलाफ आपराधिक कार्वाई की अपील की। अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट एस के गढ़वी ने आपराधिक दंड संहिता की धारा 302 के तहत मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं।


इस मामले में सात प्रतिवादी लेख की लेखिका रोहिणी सिंह, न्यूज पोर्टल के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ वर्द्धराजन, सिद्धार्थ भाटिया और एम के वेणू, प्रबंधक संपादक मोनोबिना गुप्ता, पब्लिक एडिटर पामेला फिलिपोस और द वायर का प्रकाशन करने वाली गैर लाभकारी कंपनी फाउंडेशन फॉर इंडीपेंडेंट जर्नलिज्म हैं।

द वायर ने अपनी खबर में कहा है कि जय शाह की कंपनी के टर्नओवर में वर्ष 2014 में भाजपा के सत्ता में आने के बाद बेतहाशा वृद्धि देखी गई। हालांकि, जय शाह ने आरोप खारिज करते हुए इस खबर को झूठा, अपमानजनक और मानहानि बताया।

अदालत ने कहा कि वह मामले की शुरुआती जांच पूरी होने के बाद प्रतिवादियों को सम्मन जारी करेगी। न्यायिक जांच के लिए अगली सुनवाई 11 अक्तूबर को होगी और उस दिन लेख के प्रकाशन के बारे में सबसे पहले जय शाह को सूचना देने वाले दो गवाह अपने बयान दर्ज करा सकते हैं।


शाह ने अभी प्रतिवादियों के खिलाफ दीवानी मानहानि का मुकदमा दायर नहीं किया है। उन्होंने पहले घोषणा की थी कि वह 100 करोड़ रुपये की दीवानी मानहानि का मुकदमा भी दायर करेंगे।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

  • काश, समय से पहले ना गए होते कांशीराम....

    कांशीराम जी की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष...ये कहने में शायद किसी को कोई ऐतराज नहीं होगा कि बाबा साहब के बाद कांशीराम जी बहुजनों के सबसे बड़े नेता थे। और उनकी असमायिक मौत से बहुजन समाज का जो नुकसान…

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े