img

उभरती अर्थव्यवस्था की सूची में पाकिस्तान-बांग्लादेश से भी पिछड़ा भारत,103 देशों में मिला 62वां स्थान

नई दिल्ली। जहाँ एक तरफ देश में अर्थव्यवस्था को लेकर बड़े-बड़े दावे किये जा रहे हैं और कहा जा रहा है कि जल्द ही भारत चीन को पछाड़कर अर्थव्यवस्था के मामले में आगे निकल जाएगा। वहीँ उभरती अर्थव्यवस्था की सूची में  भारत को  पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, और श्रीलंका जैसे देशो ने भी पछाड़ दिया है।

विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) ने अपनी सालाना शिखर बैठक शुरू होने से पहले सोमवार को जारी समावेशी वृद्धि सूचकांक की सूची में भारत उभरती अर्थव्यवस्थाओं वाले देशो में 62वें स्थान पर है। इस मामले में चीन का 26वां और पाकिस्तान का 47वां स्थान है।

डब्ल्यूईएफ ने कहा कि इस सूचकांक में रहन सहन का स्तर, पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊपन और भविष्य की पीढ़ियों को और कर्ज के बोझ से संरक्षण आदि पहलुओं को शामिल किया जाता है।

डब्ल्यूईएफ ने विश्व नेताओं से कहा कि वे तेजी से समावेशी वृद्धि और विकास के नए मॉडल की ओर बढ़े। मंच ने कहा कि आर्थिक मोर्चे पर उपलब्धि हासिल करने के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) पर निर्भरता बढ़ने से असमानता की स्थिति पैदा हो रही है।

भारत पिछले साल 79 विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में 60वें स्थान पर था, जबकि चीन 15वें और पाकिस्तान 52वें स्थान पर था। वर्ष 2018 के इंडेक्स में 103 अर्थव्यवस्थाओं की प्रगति की आकलन तीन निजी स्तंभों- वृद्धि एवं विकास, समावेशन और अंतर पीढ़ी इक्विटी के आधार पर किया गया है। इसे दो हिस्सों में बांटा गया है। पहले हिस्से में 29 विकसित अर्थव्यवस्थाओं तथा दूसरे में 74 उभरती अर्थव्यवस्थाओं को शामिल किया गया है।

इस इंडेक्स में पांच चाल के समावेशी विकास एवं वृद्धि के रुख पर विभिन्न देशों को पांच उप श्रेणियों में वगीकृत किया गया है। यह है घटना, धीरे-धीरे घटना, स्थिर, धीमी वृद्धि या वृद्धि। भारत का कुल अंक निचले स्तर पर हैं, लेकिन इसके बावजूद वह उन दस उभरती अर्थव्यवस्थाओं में हैं जो बढ़ रही हैं। विकसित अर्थव्यवस्थाओं में नॉर्वे के बाद आयरलैंड, लग्जमबर्ग, स्विट्जरलैंड और डेनमार्क शीर्ष पांच में शामिल हैं।

सूचकांक में शीर्ष पर छोटे यूरोपीय देश हैं। शीर्ष दस में नौवें स्थान पर आस्ट्रेलिया एकमात्र गैर यूरोपीय देश है। जी-7 अर्थव्यवस्थाओं में जर्मनी 12वें, कनाडा 17 वें, फ्रांस 18वें, ब्रिटेन 21वें, अमेरिका 23वें, जापान 24वें और इटली 27वें स्थान पर है। शीर्ष पांच समावेशी उभरती अर्थव्यवस्थाओं में लुथिआना, हंगरी, अजरबैजान, लातविया और पोलैंड है। ब्रिक्स देशों में रूस 19वें, चीन 26वें, ब्राजील 37वें, भारत 62वें और दक्षिण अफ्रीका 69वें स्थान पर है।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

2 Comments

  •  

    जिस देश में बिना बताए, बिना पार्लियामैंट की अनुमति भारतीय currency का Demonateriztion कर दिया जाये नये नये आर्थिक implementation नियम बनाए जाए प्रतिदिन वहाँ सरकार की मंशा पर ही नहीं देश की आर्थिक अवस्था भी शक के दायरे में गिनी जाती है अतः ऐसा देश विश्व के सामने किस नम्बर पर अपना स्थान बना पायेगा कोई आश्चर्य जनक नहीं है ,यह तो होना ही है ।

  •  

    जिस देश में बिना बताए, बिना पार्लियामैंट की अनुमति भारतीय currency का Demonateriztion कर दिया जाये नये नये आर्थिक implementation नियम बनाए जाए प्रतिदिन वहाँ सरकार की मंशा पर ही नहीं देश की आर्थिक अवस्था भी शक के दायरे में गिनी जाती है अतः ऐसा देश विश्व के सामने किस नम्बर पर अपना स्थान बना पायेगा कोई आश्चर्य जनक नहीं है ,यह तो होना ही है ।

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े