img

कैसे फटते हैं बादल और मचाते हैं तबाही, जिम्मेदार कौन ?

मालपा, मांगती, घटियाबगड़ में खोज व राहत कार्य जारी। शासन ने किये 25 करोड़ स्वीकृत
उत्तराखंड में एक बार फिर आपदा ने 1998, 2006, 2010, और 2013 की आपदा के घाव हरे कर दिये हैं। मालपा में तो आपदा ने 1998, 2006 के दुःखद हादसों की यादें दोबारा ताजा कर दी है। पिथौरागढ़ जिले के कैलाश मानसरोवर मार्ग पर तवाघाट के मांगती नाले और मालपा में 14 अगस्त की अलसुबह दो बजे के करीब बादल फटने की घटना हुई।

अपुष्ट सूत्रों के अनुसार घटना में अब तक 17 लोगों के शव बरामद किये जा चुके हैं। पिथौरागढ़ के जिला आपातकालीन परिचालन केंद्र के अनुसार मांगती नाले में एक व्यक्ति की मृत्यु हुई है, जबकि पांच सैनिकों, एक जेसीओ व दो स्थानीय लोगों के लापता होने, तीन सैनिकों व एक जेसीओ के घायल होने, सेना के दो वाहनों व तीन सेना के टेंटों के क्षतिग्रस्त होने के साथ ही 24 खच्चरों व 16 बकरियों की मौत होने की पुष्टि की गयी है। हाल ही में प्रशासन ने मालपा में चार लोगों की मौत, दो के लापता होने व एक महिला के घायल होने के साथ चार होटल व दुकानों के क्षतिग्रस्त होने की पुष्टि की है। हादसे में पूर्व में सेना के सात जवान लापता बताये गये थे। उनमें से चार को सकुशल बचा लिया गया है। मुकद्दर का खेल ऐसा कि वहीं एक महिला काली नदी में बहते हुए नेपाल की तरफ सुरक्षित पहुंची है।

दूसरी ओर मांगती में दो और सिमखोला में एक पुल क्षतिग्रस्त हुआ है और ऐलगाड़ में मुख्य मार्ग अवरुद्ध है। इसके अलावा दर्जनों की संख्या में लोग घायल तथा लगभग 30 लोग अब भी लापता बताये जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि सेना के तीन ट्रक भी नाले में बह गए हैं। हालांकि मौके पर आपदा प्रबंधन और पुलिस की टीमें मौजूद हैं। सेना भी मौके पर सहायता करने के लिए पहुंची है। मालपा में जमींदोज घर से छह लोगों के शव निकाल लिए गए हैं। इनमें गब्र्यांग गांव के पांच पुरुष व बूंदी निवासी एक महिला बताई जा रही है। आफत की बारिश में मालपा में तीन मकान ध्वस्त हुए। मांगती नाला सिमखोला में पैदल पुल को बहा ले गया। मांगती नाले के समीप कुमाऊं-3  रेजीमेंट का एक जवान अभी लापता चल रहा है। बादल फटने की घटना को देखते हुए शासन स्तर से रेस्क्यू के लिए हेलीकॉप्टर भेजे गए हैं। आपदा को देखते हुए यह हेलीकॉप्टर धारचूला में ही तैनात रहेंगे। जहां से रेस्क्यू कर आपदा में फंसे लोगों को निकाला जाएगा। हादसे के बाद से ही आईटीबीपी, एसएसबी, सेना, एनडीआरएफ की टीम बचाव राहत कार्य में जुट गई है।

धारचूला (पिथौरागढ़) में बादल फटने की घटना में तबाह हुए मालपा व मांगती घटियाबगड़ में एक सप्ताह और खोज अभियान चलाया जाएगा। इसके लिए शासन ने 25 करोड़ रुपये जारी किए हैं। इस आपदा में 30 लोगों के मरने की आशंका जताई जा रही है। अभी तक महज 12 शव ही बरामद हो सके हैं। लापता लोगों में सेना के जेसीओ समेत छह जवान शामिल हैं। एसडीआरएफ की डॉग स्क्वायड टीम भी खोज अभियान में जुटी है। इधर सेना के जवानों ने लापता अपने जेसीओ व छह जवानों की खोज के लिए काली नदी के किनारे 28 किमी तक खोज अभियान चलाया लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। बीते बुधवार ढुंगातोली के पास काली नदी में मिले शव की शिनाख्त नेपाली मजदूर के रूप में हुई है। इधर हेलीकॉप्टरों से उच्च हिमालय में फंसे प्रभावित क्षेत्र के लोगों को धारचूला लाया जा रहा है। प्रशासन की तरफ से मुख्य विकास अधिकारी आशीष चैहान और एसडीएम आरके पांडेय मालपा में डेरा डाले हुए हैं। अधिकारियों का भी मानना है कि अब शवों के मिलने की संभावना न के बराबर है। मुख्य सचिव ने वीडियो कॉंफ्रेंसिंग से अभी एक सप्ताह और खोज एवं बचाव का कार्य चलाने के निर्देश दिए हैं।

जिलाधिकारी सी रविशंकर का कहना है कि अभी तक आठ शव मिले हैं। जिनकी मौत की पुष्टि हो चुकी है। लापता लोगों की तलाशी का कार्य जारी रहेगा। बरामद चार अन्य शवों के बारे में प्रशासन कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। समझा जा रहा है कि ये शव नेपाली मजदूरों के हो सकते हैं। अलबत्ता प्रशासन अब स्वीकार कर रहा है कि 12 नेपाली मजदूरों सहित 25 लोग लापता हैं। 
   
जबकि इधर कैलाश मानसरोवर यात्रा पर इस आपदा से प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। फिर भी प्रशासन की संवेदनशीलता को देखते हुए उच्च हिमालयी क्षेत्र में आपदा से मार्ग बंद होने के बाद भी कैलाश मानसरोवर यात्रा जारी रखी गई है। कैलाश यात्रा से लौटने पर गुंजी में फंसे 13वें दल के 35 कैलाश यात्रियों को एयर लिफ्ट कर धारचूला पहुंचाया गया। अभी इस दल के 13 यात्री गुंजी में ही फंसे हैं। इधर यात्रा के लिए धारचूला पहुंचे 16वें दल के 47 यात्रियों को गुंजी व बूंदी में हेलीकॉप्टर से पहुंचाया गया। इसमें मौसम साफ रहने तक 34 यात्री गुंजी पहुंचा दिए गए थे। इसके बाद हेलीकॉप्टर ने 13 यात्रियों को बूंदी के पड़ाव पर उतारा।  

क्युमुलोनिंबस बादल फटने से मचती है तबाही
आखिर वह बाधा कौन सी है, जिसके कारण बादल अचानक फट पड़ते हैं? मौसम विज्ञानी बताते हैं कि हमारे देश में हर साल मानसून के समय पानी से भरे हुए बादल उत्तर की ओर बढ़ते हैं, जिनके लिए हिमालय पर्वत एक बड़े अवरोधक के रूप में आता है। इसीलिए बादल फटने की ज्यादातर घटनाएं पहाड़ों में ही होती है। इसके अतिरिक्त, ये बादल जरा सी भी गर्मी बर्दाश्त नहीं कर पाते। यदि गर्म हवा का झोंका उन्हें छू जाए, तो उनके फट पड़ने की आशंका बन जाती है। ऐसा ही मुंबई में 26 जुलाई 2005 को हुआ था, जब बादल किसी ठोस वस्तु से नहीं, बल्कि गर्म हवा से टकराए थे।

मौसम विज्ञानियों के अनुसार बादलों की आकृति और उनकी पृथ्वी से ऊंचाई के आधार पर इन्हें कई वर्ग में बांटा गया है। पहले वर्ग में आते हैं, लो क्लाउड्स, यानी ये पृथ्वी से ज्यादा नजदीक होते हैं। इनकी ऊंचाई लगभग ढाई किलोमीटर तक होती है। इनमें एक जैसे दिखने वाले भूरे रंग के बादल, कपास के ढेर जैसे कपासी, गरजने वाले काले रंग के रुई जैसे भूरे-काले रंग के, वर्षा वाले स्ट्रेट बादल, और भूरे-सफेद रंग के स्ट्रेट-कपास जैसे बादल आते हैं। बादलों में दूसरा वर्ग है मध्य ऊंचाई वाले बादलों का। इनकी ऊंचाई ढाई से साढे चार किलोमीटर तक होती है। इस वर्ग में दो तरह के बादल हैं आल्टोस्ट्राटस और आल्टोक्युमुलस। तीसरा वर्ग है उच्च मेघों का। इनकी ऊंचाई साढ़े चार किलोमीटर से ज्यादा रहती है। इस वर्ग में सफेद रंग के छोटे-छोटे साइरस बादल, लहरदार साइरोक्युमुलस और पारदर्शक रेशेयुक्त साइरोस्ट्राटस बादल आते हैं। इन तमाम बादलों में कुछ हमारे लिए फायदेमंद हैं, तो कुछ डिजास्टर बनकर आते हैं। बादल फटने की घटना के लिए क्युमुलोनिंबस बादल जिम्मेदार हैं। इन बादलों को गौर से देखो तो ये बड़े खूबसूरत लगते हैं। ऐसा लगता है जैसे आकाश में कोई बहुत बड़ा गोभी का फूल तैर रहा हो। इनकी लंबाई 14 किलोमीटर तक होती है। आखिर इतने सुंदर बादल तबाही क्यों ले आते हैं।
 
दरअसल जब क्युमुलोनिंबस बादलों में एकाएक नमी पहुंचनी बंद हो जाती है या कोई हवा का झोका उनमें प्रवेश कर जाता है तो ये सफेद बादल गहरे काले रंग में परिवर्तित हो जाते हैं और तेज गरज के साथ पूरी शक्ति के साथ बरस पड़ते हैं। क्युमुलोनिंबस बादलों के बरसने की रफ्तार इतनी तेज होती है कि मानो आसमान से पूरी नदी उतर आई हो। यहां मौसम विज्ञानी और पर्यावरणीय विज्ञानीयों की बातों में दम है। पर्यावरण विज्ञानी बताते हैं कि यह मध्य हिमालय अभी शैशवकाल में है जिसकी ऊंचाई बढ रही है। दूसरी ओर मौसम विज्ञानी बता रहे हैं ऐसे क्युमुलोनिंबस बादलो के तैरने में जब बाधा आती है तो वे फट जाते हैं। निश्चित तौर पर हिमालय की ऊंचाई बढ रही है, बादल फटने की घटनाऐं भी बढ रही है। सरकारो को इसका उपाय वैज्ञानिक विधि से ही करना होगा।
   
गंगा-अवतरण की पौराणिक कथा में जब गंगा को पृथ्वी पर लाने के लिए भगीरथ ने भगवान शिव का सहारा लिया था, जिन्होंने अपनी एक लट के सहारे गंगा को पृथ्वी पर उतारा था। सोचो, यदि गंगा एक साथ पृथ्वी पर बह जातीं, तो कितनी तबाही मच जाती। इसी तरह बादल फटने पर भी बादलों का पूरा पानी एक साथ पृथ्वी पर गिर पड़ता है। बादल फटने के कारण होने वाली वर्षा लगभग 100 मिलीमीटर प्रति घंटा की दर से होती है। कुछ ही मिनट में दो सेंटीमीटर से अधिक वर्षा हो जाती है, जिस कारण भारी तबाही होती है।
    
ट्रॉली व फोल्डिंग पुल स्वीकृत - श्री पन्त
वित्त मंत्री प्रकाश पन्त ने बताया कि शासन ने आपदा प्रभावित क्षेत्र में आवाजाही सुचारू करने के लिए तात्कालिक व्यवस्था के तहत दो ट्रॉली और दो फोल्डिंग पुल स्वीकृत किए हैं। स्वीकृत दो ट्रॉली पुल निर्माण होने तक एक ट्रॉली नजंग में और एक ट्राली मालपा में लगाई जाएगी। आवागमन हेतु नालों पर फोल्डिंग पुल लगाए जाएंगे। इसके अलावा सरकार ने अहतियात के तौर पर 25 करोड़ रूपये स्वीकृत किये है ताकि आपदा राहत में कोई कमी ना रहे।  

प्रेम पंचोली
प्रेम पंचोली
ब्यूरो चीफ
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े