img

भरी सभा में कांस्टेबल की करतूत सुनकर सन्न रह गए पुलिस अधिकारी, छात्रा को भेजता था अश्लील मैसेज

लखनऊ- योगी सरकार चाहे लाख दावे कर ले कि उत्तर प्रदेश में अपराध का ग्राफ कम हुआ है लेकिन ज़मीनी हकीकत कुछ और ही मंज़र बयां करती दिखती है। बल्कि ये कहना गलत नहीं होगा कि योगीराज में पुलिस भी गुंडागर्दी पर उतर आई है। ताजा मामले को देखकर तो ऐसा ही लग रहा है कि योगी की पुलिस ने मनचलों को भी पीछे छोड़ दिया है। इसकी पोल एक लड़की ने भरी सभा में पुलिस अधिकारियों के सामने खोली।

महिला सुरक्षा सप्ताह अभियान के तहत जयपुरिया कॉलेज में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पुलिस अधिकारी महिला सुरक्षा को लेकर बड़ी-बड़ी हांक रहे थे लेकिन जब एक लड़की ने भरी सभा में अपनी आपबीती सुनानी शुरू की तो पुलिस अधिकारियों की बोलती बंद हो गई। लड़की ने उन्हें बताया कि एक कॉन्सटेबल ने पिछले कुछ दिनों से किस तरह उसका जीना मुश्किल कर रखा है।

लड़की ने पुलिस अधिकारियों के सामने गौरव नाम के एक पुलिस कॉस्टेबल पर छेड़खानी और परेशान करने का आरोप लगाया। लड़की ने अपने मोबाइल का व्हाट्सअप पुलिस अधिकारियों को दिखाया कि किस तरह वो रोजाना उसे अश्लील मैसेज भेजता है। 

छात्रा ने बताया कि पिछले महीने की 5 नवंबर को उनके कॉलेज में डीजे नाईट थी। इसके बाद करीब 11 बजे कॉलेज के ही एक छात्र के साथ वह गोमती नगर रेलवे स्टेशन पर सेल्फी ले रही थी कि इसी दौरान एक सिपाही अपनी मोटरसाइकिल से आया और दोनों के साथ अभद्र व्यवहार करने लगा। उनका मोबाइल छिनने लगा।  और कहने लगा कि इतनी रात को यहां पर क्या कर रहे हो। ये लड़का कौन लगता है। इसके साथ रात में क्यों घूम रही हो। 

छात्रा ने बताया कि थोड़ी देर बाद सिपाही ने फोन कर एक कार मंगाई और मुझे मेरे दोस्त के साथ गोमती नगर थाने ले आई। उसके साथ कोई महिला पुलिस भी नहीं थी। थाने में उनके साथ गाली गलौच और अभद्र भाषा का प्रयोग किया। छात्रा ने बताया कि उसके साथी को छोड़ने के लिए उससे 3500 रुपए भी लिए गए।

छात्रा की आपबीती सुनकर पुलिस अधिकारी भी सन्न रह गए। लड़की की शिकायत के बाद एसएसपी ने आरोपी कांस्टेबल के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई का भरोसा दिया है।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े