img

दिल्ली विश्वविद्यालय में जाति के कारण छात्र को बेरहमी से पीटा, बोले, 'तू भंगी है, तू हमारे साथ पढ़ेगा ? '

दिल्ली विश्वविद्यालय के दयाल सिंह कॉलेज में एक छात्र पर उसकी जाति से नफरत करने के कारण हमला करने का मामला सामने आया है। छात्र का नाम आशीष बेनीवाल है, और वो अनुसूचित जाति से आता है। बीती 7 फरवरी को दिल्ली के दयाल सिंह कॉलेज में एक कार्यक्रम के दौरान 18 साल के लड़के और उसके दो दोस्तों पर सीनियर छात्रों द्वारा हमला किया गया। हमले की वजह थी- जातीय श्रेष्ठता का गुमान।

आशीष बेनीवाल मयूर विहार वाल्मीकि कॉलोनी में रहने वाले हैं और दयाल सिंह कॉलेज में बीए, प्रथम वर्ष के छात्र हैं। 7 फ़रवरी को आशीष अपने दो दोस्तों अंकित शर्मा और अमित विधूड़ी के साथ कॉलेज में लंच कर रहे थे, उसी दौरान 4-5 सीनियर्स ने उन पर कांच की बोतलों और बर्फ़ के टुकड़ो से हमला कर दिया। हमले की वजह सिर्फ इतनी है कि आशीष तथाकथित निम्न जाति से संबंध रखता है।

दोषियों में से तीन लड़कों की पहचान की गई है जिनमे अंकित दहिया, सनी गुज्जर, सुनील शेओरन शामिल हैं। इन तीनों आरोपियों को उसी दिन हिरासत में ले लिया गया था लेकिन कुछ समय बाद ही उन्हें छोड़ दिया गया।

आशीष बेनीवाल अनुसूचित जाति से हैं। उन पर हमला करने वाले जाट समुदाय के थे। और वे करीब 3-4 महीनों से आशीष को परेशान कर रहे थे और बार बार कहते थे कि ' तू भंगी है, तू हमारे साथ पढ़ेगा ?'

करीब 3 बजे कुछ सीनियर्स आशीष और उसके दोस्तों के साथ झगड़ा करने लगे और अंकित दहिया जबरदस्ती आशीष से लड़ाई करने लगा कि इसने मुझसे जुबान कैसे लड़ाई। और माफी मांगने के लिए कहने लगा। आशीष ने ऐसा करने से इंकार कर दिया, जिसके बाद अंकित दहिया उसको मारने लगा।

अंकित ने अपनी जेब से बर्फ़ के टुकड़े निकाले और आशीष के मुहं पर मारने लगा। उसके बाद उसने कांच की बोतल तोड़कर उसके चेहरे पर मारी। जब उसके दोस्तों ने उसे बचाने की कोशिश की तब सीनियर्स उन्हें भी मारने लग गए। द हिन्दू की खबर के मुताबिक, आशीष ने बताया कि उनके ऊपर हुए हमले का कारण जातिवादी असंतोष है।

7 फरवरी को आशीष ने लोधी कॉलोनी पुलिस स्टेशन में जब इसकी रिपोर्ट की तब ऑफिसर ने उनसे कहा की आप जाति के एंगल से FIR दर्ज नहीं कर सकते। आशीष ने उनसे कहा की उन्हें जाति की वजह से ही मारा गया है ऑफिसर ने आशीष का बयान लिया लेकिन उसके बाद कुछ भी नहीं किया। उसके बाद वरिष्ठ अधिकारी ने कहा की पीड़ित ने कोई FIR दर्ज नहीं की है अगर वो रिपोर्ट करते हैं तो उन पर जल्द से जल्द एक्शन लिया जायेगा। धारा 341, 323,  506 और एक्ट 34 के तहत एफआईआर दर्ज की गई। 

आशीष के पिता हर्ष बेनीवाल ने बताया कि उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दी है, उन्होंने बताया कि वो कॉलेज के प्रिंसिपल पी.के. शर्मा से भी मिले थे और उन्होंने उचित कार्यवाही करने की सांत्वना दी है। 

प्रिंसिपल पी.के. शर्मा ने खबर की पुष्टि करते हुए बताया कि आशीष के पिता से से उनकी बात हुई है और वो चाहते हैं कि पुलिस कार्यवाही में दोषियों के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएं। मैने आशीष के पिता को आश्वासन दिया है कि मैं खुद पुलिस को लिखूंगा कि दोषियों पर उचित कार्यवाही की जाए।

साभार - द हिंदू

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े