img

इलाहाबाद में सरेआम हुआ मानवता का क़त्ल!, दबंगों ने की मामूली बात पर अनुसूचित जाति के छात्र की पीट-पीटकर हत्या, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात

उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में मानवता को कलंकित करने वाली एक ऐसी दर्दनाक वारदात सामने आई है, जो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के यूपी में कानून का राज स्थापित होने के दावों की खुलेआम धज्जियां उड़ाती दिख रही है। यहां दबंगों ने हैवानियत की सभी हदों को पार करते हुए कानून की पढ़ाई कर रहे अनुसूचित जाति समाज के एक छात्र को रॉड, डंडों और पत्थर से पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया। इस वारदात की दिल दहला देने वाली तस्वीरें सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई हैं, जिसकी वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हो रही है।  

वीडियो देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:-  
https://youtu.be/i01qQW3jqh0


संगम नगरी इलाहाबाद में कर्नलगंज क्षेत्र के कटरा  में स्थित कलिका रेस्टोरेंट पर ऐसा बदनुमा दाग लगा है, जिसे देखने से मानवतावादी इंसानों का दिल दहल जाएगा और रूह कांप उठेगी। जी हां ये बिल्कुल सही है...अब हम आपको इस पूरी वारदात से अवगत करा रहे हैं। शनिवार की रात इलाहाबाद डिग्री कॉलेज में एलएलबी द्वितीय वर्ष का छात्र दिलीप सरोज अपने कुछ दोस्तों के साथ कलिका रेस्टोरेंट में खाना खाने के बाद सीढ़ियों पर बैठ कर फोन पर बात कर रहा था, तभी चार दबंग लोग रेस्टोरेंट की सीढ़ियों से उतर रहे थे और वो दिलीप से टकरा गए।  इसी बात को लेकर उनके बीच कहासुनी हो गई। इसके बाद चारों दबंगों ने दिलीप को बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया। इस दौरान दिलीप के दोस्त अपनी जान बचाकर मौके से भाग गए।  जब दिलीप मरणासन्न हालत में हो गया, तो दबंग उसे रेस्टोरेंट की सीढ़ियों से घसीट कर सड़क पर ले आये और बेहोशी की हालत में उसके सिर से लेकर पैरों तक रॉड और पत्थरों से सरेआम मारते रहे। लेकिन किसी ने भी उसे बचाने की जहमत नहीं उठाई। और फिर सभी दरिंदे अपनी फॉर्च्यूनर कार से फरार हो गए। बाद में रेस्टोरेंट के मालिक अमित उपाध्याय ने उसे अपने कर्मचारियों की सहायता से एसआरएन अस्पताल में पहुंचाया। लेकिन गंभीर हालत के चलते उसे एक निजी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे बचाने की भरसक कोशिश की, लेकिन दिलीप रविवार को जिंदगी की जंग हार गया और उसने दम तोड़ दिया। हैवानों की ये शर्मनाक करतूत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है।

मृतक छात्र दिलीप कुमार सरोज (फाइल फोटो)


बताया जा रहा है कि 26 साल का मृतक छात्र दिलीप सरोज प्रतापगढ़ जिले में कुंडा क्षेत्र के हथिगवां के रहने वाले अनुसूचित जाति समाज के रामलाल सरोज का बेटा था, जो इलाहाबाद के ओम गायत्री नगर में किराये के मकान में रहकर कानून की पढ़ाई के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी भी कर रहा था। उसके बड़े भाई महेश सरोज रायबरेली में जिला उद्योग केंद्र में जिला सांख्यिकीय अधिकारी के पद पर तैनात हैं और माता-पिता को साथ लेकर रायबरेली में ही रहते हैं। घटना की सूचना मिलते ही दिलीप सरोज के परिवार में कोहराम मच गया और उसके भाई महेश सरोज ने लखनऊ पहुंच कर अज्ञात आरोपियों के खिलाफ़ शिकायत दर्ज कराई। महेश सरोज का कहना है कि दिलीप की किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी और वो हमलावरों में से किसी को भी जानता था।

मुख्य आरोपी विजय शंकर (फाइल फोटो)


इस मामल में पुलिस ने संगीन धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। और सीसीटीवी के फुटेज के आधार पर आरोपियों की शिनाख्त करके अब तक 3 आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया गया हैै और कार भी बरामद कर ली है। पुलिस की स्पेशल टीम ने वारदात में शामिल रेस्टोरेंट के वेटर मुन्ना सिंह चौहान रविवार की रात को पकड़ लिया था, जबकि 2 अन्य आरोपियों ज्ञान प्रकाश अवस्थी,कार चालक रामदीन मौर्या को सोमवार दोपहर बाद पकड़ लिया गया। अभी मुख्य आरोपी विजय शंकर की तलाश में पुलिस टीमें दबिश दे रही हैं। पुलिस कप्तान आकाश कुलहरि ने बताया की सबसे पहले वेटर मुन्ना सिंह चौहान ने ही दिलीप पर लोहे की रॉड से हमला किया था। मामले का मुख्य आरोपी विजय शंकर है, जो  रेलवे में टीटीई की नौकरी करता है। इस मामले में एसएसपी ने कटरा पुलिस चौकी प्रभारी समेत 3 पुलिसकर्मियों को कार्य में लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिया है।    


बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने दलित छात्र की निर्मम हत्या पर दुख जताते हुए योगी सरकार को कठघरे में खड़ा किया है और आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है। बीएसपी के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मंत्री रामअचल राजभर को पीड़ित परिवार से मिलने के लिए इलाहबाद भेजा है। वहीं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इलाहाबाद में सरेआम हुई इस घिनौनी वारदात पर टविट करके यूपी में कानून व्यवस्था के मुद्दे को लेकर योगी सरकार की कार्यशैली पर गंभीर सवाल उठाए हैं। अखिलेश यादव ने दिलीप की मौत पर गहरा दुख जताया है। उन्होंने अपने टवीट में कहा  'बेहद दु:खद ! 26 वर्षीय दिलीप सरोज का इलाहाबाद में सरेआम क़त्ल! लाचार क़ानून व्यवस्था, बद से बदतर होती स्थिति भाजपा राज में।'


जी हां...इस ख़बर को पढ़ने और देखने के बाद हर किसी को यही लगेगा कि वास्तव में आदमी कितना संवेदनहीन हो गया है या उसके अंदर का इंसान बिल्कुल मर गया है। आखिर क्या हो गया है इस इंसानी समाज को जो, मामूली बात भी सहन नहीं कर पाता, बल्कि आदमी के रूप में दानवों जैसा बर्ताव करके मानवता का क़त्ल कर देता है।  इस पर सभी को सोचना और समझना होगा, ताकि फिर किसी इंसान को दिलीप की तरह मामूली बात पर सेरआम ज़िंदगी की जंग न हारनी पड़े।


मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े