img

UPDATE- अयोग्य सरकार की भेंट चढ़ी योग्य बच्ची, मोदी सरकार के फैसले को चुनौती देने वाली दलित छात्रा अनीता ने की खुदकुशी

तमिलनाडु- सुप्रीम कोर्ट में NEET को चैलेंज करने वाली 17 वर्षीय दलित छात्रा एस अनीता ने सूसाइड कर लिया। तमिलनाडु के अरियालुर जिले की रहने वाली अनीता ने अपने घर में खुदकुशी कर ली। 

बता दें कि अनिता के पिताजी दिहाड़ी मजदूरी का काम करते हैं वो बेहद गरीब परिवार से थी। अनीता ने 12वीं बोर्ड परीक्षा में 1200 में से 1176 अंक हासिल कर 98% प्राप्त किए थे। जिसके आधार पर उनका एडमिशन एमबीबीएस में हो जाता लेकिन NEET परीक्षा के चलते ऐसा संभव नहीं हुआ। NEET की परीक्षा में अनीता को केवल 86 नंबर ही मिले थे। परिजनों को मुताबिक वह काफी दिनों से परेशान चल रही थी।    गौरतलब है कि अनीता ने NEET परीक्षा को तमिलनाडु में अनिवार्य किए जाने के मोदी सरकार के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। लेकिन कोर्ट ने उसकी दलील अस्वीकार करते हुए तमिलनाडु को कोई छूट नहीं दी। वैसे इसी साल तमिलनाडु सरकार ने अध्यादेश के जरिए NEET परीक्षा को बाहर करने का प्रयास किया था, लेकिन नौ दिन पहले ही सुप्रीट कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया था। 

NEET परीक्षा का आयोजन मेडिकल और डेंटल कॉलेज में MBBS और BDS कोर्सेस में दाखिला लेने के लिए किया जाता है। नीट क्लियर करने वाले छात्रों को उन कॉलेजों में दाखिला मिलता है, जो मेडिकल कांउसिल ऑफ इंडिया और डेटल कांउसिल ऑफ इंडिया से संचालित होते हैं। 
कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर अनीता का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह लोगों से मेडिकल की पढ़ाई करने में मदद करने की मांग करते दिख रही हैं।

इस वीडियो में अनीता कह रही हैं, "मैंने इस साल 12वीं की परीक्षा में 1200 नंबरों में से 1176 हासिल किए हैं। मैंने गणित और भौतिक विज्ञान में 200 में से 200 नंबर हासिल किए हैं. मेडिकल की पढ़ाई करना मेरी महत्वाकांक्षा है। मेरे पिता कुली हैं और मेरे चार बड़े भाई हैं। मेरी मां 10 साल पहले गुज़र गई थीं। मेरे दोस्तों मुझे मेडिकल की पढ़ाई करने में मदद करें।"

अनीता की खुदकुशी के बाद से छात्रों में NEET को लेकर रोष बढ़ गया है, चेन्नई में स्टूडेंट फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने इस मामले में सड़कों पर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। वहीं रिवोल्युशनरी स्टूडेंट और यूथ फ्रंट संगठन के सदस्यों ने भी अनिता की खुदकुशी के खिलाफ प्रदर्शन किया। कुछ प्रदरशनकारियों को पुलिस ने हिरासत में भी लिया।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े