img

जालिमों ने नहीं दफनाने दिया 8 महीने की बच्ची का शव, दलित परिवार को मारकर भगाया


यूपी के कौशाम्बी जिले में उस समय हंगामा खड़ा हो गया, जब एक दलित परिवार को उसकी मासूम बेटी का शव दफनाने पर सवर्णों ने रोक दिया | दलित परिवार ने इसका विरोध किया तो पास के गाव के सवर्णों ने तालाब की जमीन को अपना बताते हुए उन्हें जबरन मार-पीट और पत्थर चला कर भगा दिया | जिससे नाराज़ सैकड़ो की संख्या में इकठ्ठे हुए दलितों ने स्थानीय रोड को जामकर दिया | घटना सैनी थाना इलाके के थुलथुला गाव की बताई जा रही है | इस पूरे मामले पर जहाँ पुलिस के अधिकारी सवर्णों पर कोई ठोस कार्यवाही न करने के कारण मीडिया के सवालों से बच रहे है, वही दूसरी तरफ डीएम कौशाम्बी ने पूरे मामले की जाँच एसडीएम से कराकर कड़ी कार्यवाही का भरोसा दे रहे है |   

स्थानीय लोगो के मुताबिक सैनी थाने के थुलथुला गाव में रहने वाले मोती लाल की 8 माह की बेटी बीमारी के कारण मौत के मुह में चली गई | जिसके अंतिम संस्कार के लिए परिवार ने गांव के तालाब की जमीन पर गड्डा खोद कर दफनाने का प्रक्रिया शुरू की | अभी कब्र खोद कर लोग शव लेकर पहुचे ही थे कि पास के ही गाव के कुछ दबंग सवर्ण लोगों ने तालाब की जमीन को अपना बता कर मोती लाल को शव दफनाने से मना कर दिया | इतना ही नहीं दबंगों ने दलित परिवार के विरोध करने पर उनके साथ मार-पीट की और पथराव कर उन्हें वहां से भगा दिया | शव का अंतिम संस्कार न कर पाने से नाराज़ मोती ने गाव के लोगो से अपनी बात बताई | जिसके बाद सैकड़ो की संख्या में पहुचे दलितों ने सैनी देवीगंज रोड को जाम कर जमकर हंगामा किया | घटना की जानकारी लोगो से मिलने के बाद सैनी पुलिस समेत भारी पुलिस बल मौके पर पंहुचा | कई घंटे की जद्दोजहद के बाद पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने तालाब की ज़मीन को सरकारी भूमि बताते हुए शव का अंतिम संस्कार कराया | जिसके बाद पूरा मामला शांत हुआ |   

इस पूरे मामले पर सैनी थाना पुलिस ने दबंगों पर फिलहाल कोई कार्यवाही नहीं की है | कार्यवाही के बाबत तहरीर न मिलने का हवाला देकर पुलिस अधिकारी मीडिया के सवालों से बच रहे है | फिलहाल डीएम कौशाम्बी ने इस पूरे मामले की जाँच एसडीएम सिराथू को सौपी है | डीएम कौशाम्बी मनीष कुमार वर्मा का कहना है कि जाँच रिपोर्ट आने के बाद ही ठीक ठीक कहना उचित होगा और रिपोर्ट के बाद ही ठोस कार्यवाही की जाएगी | जिससे भविष्य में इस तरह की घटना दोहराई न जा सके | 

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

  • काश, समय से पहले ना गए होते कांशीराम....

    कांशीराम जी की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष...ये कहने में शायद किसी को कोई ऐतराज नहीं होगा कि बाबा साहब के बाद कांशीराम जी बहुजनों के सबसे बड़े नेता थे। और उनकी असमायिक मौत से बहुजन समाज का जो नुकसान…

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े