img

मोहन भागवत ने की गौरक्षकों की हौंसला अफ़ज़ाई, कहा गौरक्षकों को किसी से डरने की ज़रूरत नहीं

नागपुर- विजयदशमी के मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने खुले तौर पर गौरक्षकों का बचाव करते हुए कहा कि गौरक्षकों को सरकार से डरने या विचलित होने की जरूरत नहीं है। चिंतित आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को होना चाहिए, गौरक्षकों को नहीं।  

उन्होंने कहा कि गौरक्षा से जुड़े हिंसा व अत्याचार के बहुर्चिचत प्रकरणों में जाँच के बाद इन गौरक्षकों का कोई संबंध सामने नहीं आया है इसलिए गौरक्षा व गौरक्षकों को हिंसक घटनाओं के साथ जोड़ना ठीक नहीं है।  

गौरक्षा के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि कम खर्चे में विषमुक्त खेती करने का सहज सुलभ उपाय गौ आधारित खेती ही है। इसलिये गौरक्षा तथा गौ संवर्धन की गतिविधि संघ के स्वयंसेवक, भारतवर्ष के सभी संप्रदायों के संत, अनेक अन्य संगठन संस्थाएँ तथा व्यक्ति चलाते हैं। 

कश्मीर का ज़िक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए आवश्यक संवैधानिक संशोधन करना होगा ताकि उन्हें देश के शेष हिस्से से जोडा जा सके। आरएसएस और भाजपा लंबे समय से अनुच्छेद 370 को खत्म करने की मांग करते आ रहे हैं, जो जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करता है। रोहिंग्या मुद्दे पर सरकार के रुख का समर्थन करते हुए भागवत ने कहा कि आतंकवादी समूहों के साथ जुडाव के कारण वे देश की सुरक्षा के लिए खतरा हैं।  

उन्होंने कहा कि वाम शासित केरल पश्चिम बंगाल में जिहादी और राष्ट्र विरोधी ताकतें काम कर रही हैं और वहां की सरकारें न केवल उदासीन हैं बल्कि कई बार उनका समर्थन करती हैं ताकि मतदाताओं के एक धडे को तुच्छ राजनीतिक हितों के लिए खुश किया जा सके।    

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े