img

भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष के भाई की गोली मारकर हत्या

उत्तरप्रदेश- सहारनपुर में भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया के भाई सचिन वालिया की गोली मारकर हत्या कर दी गई. सचिन को गोली तब मारी गई जब वह महाराणा प्रताप जयंती स्थल से कुछ दूरी पर मौजूद थे. उन्हें यहां से हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. इसके बाद परिजनों ने जमकर हंगामा किया. पोस्टमार्टम के लिए शव ले जाने का विरोध किया. परिजनों ने आरोप लगाया कि सचिन को प्रशासन ने मरवाया. हंगामे के बीच पुलिस ने हल्का बल प्रयोग भी किया. इलाके में तनाव है.

मामला सहारनपुर के सदर बाजार थाना इलाके के मल्हीपुर रोड का है. बताया जा रहा है कि यहां महाराणा प्रताप जयंती का कार्यक्रम चल रहा था. यहां से कुछ ही दूरी पर भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया के भाई सचिन वालिया मौजूद थे. वह भी भीम आर्मी के नेता थे. बताया जा रहा है कि कार्यक्रम स्थल से कुछ ही दूरी पर सचिन को गोली मार दी गई. सचिन को हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया है. परिजनों ने घटना के बाद हंगामा किया. घटना के दौरान सचिन के साथ रहे एक शख्स ने बताया कि सचिन नाश्ता लेने के लिए निकला था, तभी किसी ने गोली मार दी. जिसने गोली मारी वह उसका चेहरा नहीं देख सका. ऐसा किसने किया, अभी इसका पता नहीं चल पाया है.

इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है. बताया जा रहा है कि महाराणा प्रताप जयंती को देखते हुए जिला प्रशासन पहले से ही अलर्ट पर था. महाराणा प्रताप भवन पर 800 पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे. 200 लोगों को जयंती मानाने की प्रशासन ने सशर्त प्रशासन दी थी. यह भी बताया जा रहा है कि भीम आर्मी ने जयंती न मनाने की चेतावनी दी थी. सचिन के भाई भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया ने कहा कि उन्होंने पहले ही यहां कार्यक्रम नहीं होने देने की बात कही थी, इसके बाद भी परमीशन दी गई. उन्हें आशंका थी कि कुछ न कुछ ऐसी घटना घट सकती है. इसके बाद जयंती मनाने के दौरान सचिन को गोली मार दी गई. पिछले साल इसी दिन सहारनपुर में जातीय हिंसा भड़की थी. भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर रावण अब तक जेल में हैं. चंद्रशेखर पर रासुका लगाई गई है, जो कई बार बढ़ाई जा चुकी है.

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े