img

बवाना विधानसभा उपचुनाव में आम आदमी पार्टी की प्रचंड जीत, बीजेपी को बड़ा झटका, तीसरे नंबर पर रही कांग्रेस

नई दिल्ली, 28 अगस्त, 2017- बवाना विधानसभा उपचुनाव में आम आदमी पार्टी ने जीत दर्ज कर ली है, आम आदमी पार्टी के रामचंद्र ने 59886 वोटों से प्रचंड जीत हासिल की है, दूसरे नंबर पर  बीजेपी के वेद प्रकाश रहे जिन्हें 35834 हासिल किए, तीसरे नबंर पर कांग्रेस के सुरेंद्र कुमार रहे जिन्हें 31919  वोट वोट मिले।  

23 अगस्त को तीन राज्यों में चार विधानसभाओं में उपचुनाव हुए थे जिनमें  आज सुबह 8 बजे से गिनती शुरू हुई थी, और सुबह से ही मुकाबला कड़ा और दिलचस्प बना हुआ था, अगर बवाना विधानसभा सीट की बात करें तो शुरू के सात सात राउंड तक कांग्रेस के उम्मीदवार सुरेंद्र कुमार आगे बने रहे। लेकिन आठवे राउंड से बाजी पलट गई और आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार रामचंद्र 339 वोटों के अंतर से आगे बढ़ गए। जिसके बाद से उन्होंने लगातार बढ़त बनाए रखी। 

गोवा में बीजेपी को शानदार सफलता मिली है यहां से दोनों सीटों पर बीजेपी ने जीत हासिल की है।  गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर ने पणजी सीट कांग्रेस के गिरीश चोडंकर को 4,803 वोटों से हराया है। वहीं गोवा की वोलपोई सीट से भी बीजेपी के विश्वजीत राणे 10 हजार से ज्यादा के अंतर से जीते हैं।  जीत के बाद मनोहर पर्रिकर ने कहा कि मैं अगले हफ्ते राज्यसभा से इस्तीफा दे दूंगा। आंध्रप्रदेश के नांदयाल विधानसभा उपचुनाव के लिए गिनती अभी जारी है, टीडीपी के भूमा ब्रह्मांद रेड्डी जीत दर्ज की हैं, इस सीट पर टीडीपी विधायक के निधन की वजह से उपचुनाव हुए थे। 

गौरतलब है कि दिल्ली की बवाना सीट आम आदमी पार्टी के विधायक वेद प्रकाश के इस्तीफा देने से खाली हुई थी। जिसके बाद वेद प्रकाश बीजेपी उम्मीदवार बनकर इस सीट से चुनाव लड़े। ऐसे में वेदप्रकाश के लिए ये हार बड़ी शर्मनाक है। आप की जीत से ये भी संदेश जाता है कि अभी भी दिल्ली के लोगों पर आम आदमी का विश्वास जारी है। क्योंकि इससे पहले राजौरी गार्डन में हुए उपचुनाव में बीजेपी ने जीत हासिल करते हुए, आप से सीट हथिया ली थी। जिसके बाद कहा जा रहा था कि अब आम आदमी पार्टी दिल्लीवासियों का विश्वास खो रही है। कांग्रेस के लिए ये परिणाम बहुत ही निराशाजनक साबित हुआ है, क्योंकि इस सीट से कांग्रेस को बड़ी उम्मीदें थीं और वो किसी भी हालत में अपनी जीत दर्ज कराकर दिल्ली में अपनी उपस्थिति दर्ज कराना चाहती थी। दरअसल दिल्ली की 70 विधानसभाओं में से 65 पर आम आदमी पार्टी का कब्ज़ा है और चार पर बीजेपी का। कांग्रेस दिल्ली में अपना खाता भी नहीं खोल पाई थी। ऐसे में कांग्रेस को बवाना सीट से बहुत उम्मीदें थी।  

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

  • काश, समय से पहले ना गए होते कांशीराम....

    कांशीराम जी की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष...ये कहने में शायद किसी को कोई ऐतराज नहीं होगा कि बाबा साहब के बाद कांशीराम जी बहुजनों के सबसे बड़े नेता थे। और उनकी असमायिक मौत से बहुजन समाज का जो नुकसान…

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े