img

यूपी नगर निकाय चुनाव में पहले चरण के लिए 52.85 फीसदी हुई वोटिंग, दूसरा चरण 26 नवंबर को

उत्तर प्रदेश में 22 नवंबर (बुधवार) को नगर निकाय चुनाव के लिए पहले चरण में 24 जिलों में मतदान शांतिपूर्वक संपन्न हुआ। राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक 52.85 फीसदी लोगों ने अपने मत का इस्तेमाल किया।    

प्रदेश के 24 जिलों में  5 नगर निगम, 71 नगर पालिका परिषद और 154 नगर पंचायतों में पहले चरण के लिए बुधवार को सुबह साढ़े सात बजे से शाम पांच बजे तक  3731 मतदान केन्द्रों के 11683 बूथों पर मतदान हुआ। पहले चरण में 1,09,26,972 मतदाताओं में से 52.85 फीसदी (57,74,771 मतदाताओं) ने मतदान हिस्सा लिया। जिससे पहले चरण के लिए चुनाव मैदान में उतरे 15,997 पुरुष और 10,317 महिला प्रत्याक्षियों समेत कुल 26,314 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम और मतपेटियों में बंद हो गई है।

मतदान संपन्न होने के बाद लखनठऊ में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में राज्य निर्वाचन आयुक्त एसके अग्रवाल ने बताया कि निकाय चुनाव का यह दौर शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुआ। हमीरपुर जिले में सर्वाधिक 69.59 प्रतिशत मतदान हुआ, जबकि गोरखपुर में सबसे कम 39.23 प्रतिशत मतदान हुआ है। राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक शामली में 66.83, मेरठ में 54.09, हापुड़ में 57.72, बिजनौर में 63.35, बदायूं में 60.89, हाथरस में 63.72, कासगंज में 62.26, आगरा में 43.11, कानपुर नगर में 44.92 और जालौन में 61.85 फीसदी मतदान हुआ।

हमीरपुर में 69.59, चित्रकूट में 62.19, कौशाम्बी में 65, प्रतापगढ़ में 61.51, उन्नाव में 62.11, हरदोई में 64.14, अमेठी में 68.44, फैजाबाद में 54.08, गोंडा में 60.39, बस्ती में 55.57, गोरखपुर में 39.23, आजमगढ़ में 59.44, गाजीपुर में 57.97 और सोनभद्र में 57.71 फीसदी वोटिंग दर्ज की गई. गोरखपुर महापौर चुनाव के लिए 35.62 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, जबकि नव गठित अयोध्या (फैजाबाद: नगर निगम में 49.98 प्रतिशत मतदान हुआ। पहले चरण में मेरठ, आगरा, कानपुर नगर, फैजाबाद और गोरखपुर नगर निगम शामिल हैं। निकाय चुनाव के लिए दूसरे चरण का मतदान 26 नवंबर को होगा। 











मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े