img

लखनऊ में प्रसपा ने मनाई लोहिया की जयंती, सीडी का भी हुआ विमोचन

प्रसिद्ध समाजवादी डॉक्टर राम मनोहर लोहिया की 109वीं जयंती के मौके पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया की तरफ से लखनऊ स्थित लोहिया ट्रस्ट और पार्टी कार्यालय पर आयोजित कार्यक्रमों में उन्हें याद किया।  इसके साथ ही क्रांतिकारी शहीद भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव को शहीद दिवस पर श्रद्धांजलि अर्पित की गई  

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने लखनऊ में पार्टी कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में लोहिया को नमन किया और शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर प्रसपा लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने डॉ. लोहिया के विचारों की सीडी का विमोचन भी किया।

    

इस मौके पर पार्टी कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुऐ शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि जिन सिद्धांतों पर समाजवाद रहा, उन सिद्धांतों पर लोहिया जी अडिग रहें, लोहिया जी हमारी विरासत हैं और हम उनके बताए रास्ते पर चल रहे हैं। एक इतिहासकार, राजनेता, सामाजिक कार्यकर्ता और स्वतंत्रता सेनानी के रूप में राममनोहर लोहिया के पास एक बहुआयामी परिप्रेक्ष्य था। उन्होंने अपने इस परिप्रेक्ष्य को समाज सुधार और राष्ट्र की उन्नति के संदर्भ में प्रस्तुत किया। शिवपाल सिंह यादव ने आगे कहा कि लोहिया भारत की अखंडता के प्रति सजग और सतर्क थे, लेकिन उन्होंने वैश्विक शांति और सहयोग की अपील भी की। वो एक ऐसा आधुनिक भारत चाहते थे, जो धार्मिक अंधविश्वास और कट्टरपंथी सोच से दूर हो। उन्होंने परंपरागत व्यवहार के सबसे बदत्तर रूप जाति व्यवस्था के खिलाफ लोहिया ने लोगों को गोलबंद किया ।

शिवपाल सिंह यादव ने अपने भाषण में भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि आज भारतीय जनता पार्टी जिन सिद्धांतों पर चल रही है उससे देश को खतरा भी है और देश कमजोर हो रहा है।  इन्हें लोहिया के सिद्धांतों पर चलने वाले लोगों से प्रशिक्षण प्राप्त होता तो बहुत कुछ मदद मिल सकती थी। इसलिए हम कहते हैं कि लोहिया जी को पढ़ो समाजवाद को पढ़ो, पढ़ना भी चाहिए। आज भाजपा को समाजवाद से कोई लेना-देना नहीं है। देखा जाये तो लोकतंत्र में इतना झूठ बोलने वाली सरकार कभी नहीं रही।

इसके साथ ही शहीद दिवस पर शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि 23 मार्च के दिन भगत सिंह, राजगुरु,सुखदेव को फांसी हुई थी। आजादी की लड़ाई बहुत लंबे समय तक चली। जितने भी क्रांतिकारी हुए सब समाजवाद वाले लोग थे।  आज समाजवाद का फर्ज बहुत से लोग जानते भी नहीं उन्हें जानना चाहिए।  लोहिया जी ने बहुत कुछ बताया है संघर्ष करना है, सत्ता परिवर्तन करना है।  जब किसी की हार हो जाती है तो फिर लोग निराश हो जाते हैं। निराश नहीं होना चाहिए।  हमने तो इस पर एक किताब भी लिखी है, "निराशा के कर्तव्य"।
भगत सिंह, राजगुरू, सुखदेव को 23 मार्च,1931 को फांसी पर चढ़ाया गया था और इन तीन देशभक्तों ने हंसते-हंसते अपनी शहादत को गले लगाया था । भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की याद में ही शहीद दिवस हर साल मनाया जाता है।     इस कार्यक्रम में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के प्रदेश अध्यक्ष सुंदरलाल लोधी प्रमुख महासचिव वीरपाल सिंह यादव,पूर्व मंत्री शारदा प्रताप शुक्ला और राष्ट्रीय प्रवक्ता दीपक मिश्रा ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किए।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े