img

गाज़ियाबाद में युवा शक्ति दल ने किया गुरु रविदास जयंती पर विचार गोष्ठी का आयोजन

गाज़ियाबाद के पसोंडा गांव में स्थित बुद्ध विहार 31 जनवरी को बहुजन समाज की तमाम हस्तियों और सैकड़ों लोगों की सामूहिक उपस्थिति का गवाह बना। मौका था संत शिरोमणि गुरु रविदास जी की 641वीं जयंती पर आयोजित विचार गोष्ठी और सम्मान समारोह का। युवा शक्ति दल की गाज़ियाबाद यूनिट की तरफ से आयोजित इस विशेष कार्यक्रम में शरीक हुए अतिथियों ने गुरु रविदास जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके प्रासंगिक विचारों पर प्रकाश डाला और सभी ने बहुजन समाज को एकजुट रहने पर जोर दिया।      

 
युवा शक्ति दल के इस विशेष कार्यक्रम की शुरुआत बुद्ध वंदना के साथ हुई। इसके बाद संस्था के पदाधिकारियों और अतिथियों ने संत शिरोमणि गुरु रविदास जी और बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी के चित्रों पर पुष्प अर्पित किए। और फिर वरिष्ठ पत्रकार संजीव कुमार सहदेव ने संचालन करते हुए मंच पर उपस्थित अतिथियों का युवा शक्ति दल की टीम से स्वागत कराया। साथ ही कार्यक्रम की रूप रेखा भी बताई।   


कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित रिटायर्ड आईएएस अधिकारी और भारत सरकार में सचिव रहे र्डॉक्टर चंद्रपाल सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि गुरु रविदास जी ने अपने विचारों के जरिये समाज से जात-पात मिटाने पर बल दिया था। और बाबा साहब ने अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़ों, महिलाओं, गरीबों और मजदूरों को संविधान के जरिये जुल्म से लड़ने और आर्थिक रूप से विकसित होने का रास्ता दिखाया था। उन्होंने कहा कि आज के दौर में बहुजन समाज पर राजनीतिक अपराधिकरण के तहत हमला हो रहा है, जो बंद होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ लोग संविधान बदलने की बात कर रहे हैं, जिसे हमारा समाज बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि संविधान बदला गया तो हम क्रांति करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि कुछ अनुसूचित जाति के नेता भी समाज को धोखा दे रहे हैं, जिनसे सावधान रहने की जरूरत है।  डॉ. चंद्रपाल सिंह ने इस मौके पर युवाओं से मेहनत से पढ़ाई कर प्रशासनिक सेवाओं में आने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि मैंने उत्तर प्रदेश सरकार और भारत सरकार में विभिन्न पदों पर रहते हुए गरीबों, मजदूरों, किसानों और महिलाओं के हित में कई योजनाएं बनाई थी। उन्होंने कहा कि युवाओं के लिए कौशल विकास योजना भी मैंने ही बनाई थी, जिसे केंद्र की मोदी सरकार ने अब लागू किया है। इस मौके पर उन्होंने कहा कि युवा शक्ति दल के पदाधिकारी सक्रिय रहकर समाज में सराहनीय कार्य कर रहे हैं।   


रिटायर्ड आई ई एस और केंद्रीय वित्त मंत्रालय में अधिकारी रहे के सी पिप्पल जी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि गुरु रविदास जी एक महान दार्शनिक, महान समाज सुधारक के रूप में सच्चे समाजशास्त्री थे। उन्होंने कहा कि रविदास जी ने अपने समय में राज शाही का पुरजोर विरोध किया था। इसी तरह बाबा साहब डॉक्टर अंबेडकर जी ने देश में लोकतंत्र स्थापित किया था और हमें मताधिकार देकर बाप का दर्जा दिलाया। अब जरूरत है कि हमें अपने वोट की शक्ति पहचान कर ऐसे जन प्रतिनिधि (सांसद और विधायक) चुनने होंगे, जो हमारी लड़ाई लड़ सके। इसके लिए हमें घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करना होगा। के सी पिप्पल जी ने ये भी कहा कि सही अर्थों में हम सब को संत गुरू रविदास जी और बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी समेत अपने सभी महापुरुषों के विचारों को आत्मसात करना होगा।   

 
इस मौके पर विश्व दलित परिषद के अध्यक्ष भूपेंद्र पाल चमार ने कहा कि संत रविदास जी को बहुत ज्ञान था, इसीलिए पूरी दुनिया में उनके विचारों का प्रचार हो रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे समाज के छात्रों को स्कॉलर बनना चाहिए, जिसके कि उनका भी नाम हो। भूपेंद्र पाल चमार ने चंद्रशेखर रावण को जेल में रखने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा कि जब तक हमारे जज नहीं होंगे तब तक हमें न्याय नहीं मिलेगा। हमें आंदोलन के जरिये अपना हक छीनना है और भाई चंद्रेशखर रावण को जेल से बाहर निकालना है। उन्होंने ये भी कहा कि हमें ज़्यादा से ज़्यादा शिक्षण संस्थान खोलने होंगे, जिससे हमारा समाज पूरी तरह शिक्षित होकर अपने अधिकारों को जान सके। इस दौरान उन्होंने ये भी कहा कि आजकल आरक्षण को समाप्त करने की  बहुत ज्यादा चर्चा हो रही है, जबकि आरक्षण का विरोध करने वाले करीब 6 लाख लोग अनुसूचित जाति का फर्जी प्रमाण पत्र बनवाकर सरकारी नौकरी कर रहे हैं, हमें इसके खिलाफ आगे आकर लड़ाई लड़नी होगी।   


एडवोकेट सूरज मोहन आर्य ने कहा कि जो काम करो, उसे पूरी तरह से निभाओ। संत गुरु रविदास जी ने भी कहा था, जो काम करो उसे पूरी लग्न के साथ करो। उन्होंने कहा कि बहुजनों की संख्या 85 फीसदी है, लेकिन हमारी भागीदारी कुछ नहीं है। जबकि हमें संख्या के आधार पर हिस्सेदारी मिलनी चाहिए। हमें अपने अधिकार जानने होंगे। उन्होंने कहा कि देश के किसी भी राज्य में अनूसचित जाति समाज का कहीं भी मुख्यमंत्री नहीं है। उन्होंने कहा कि रविदास जी ने अपने विचारों में समता की बात करते थे, लेकिन देश में अब भी असमानता कायम है।    इंजीनियर सी बी सिंह ने कहा कि हम संत रविदास जी से सीख नहीं लेते हैं, क्योंकि उन्होंने निडर रहते हुए आडंबरवादी व्यवस्था का विरोध किया था।


जनकवि सूरजभान आजाद ने मीराबाई का भजन पेश किया और अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि गुरु रविदास जी पर ज्यादा से ज़्यादा शोध होने होने चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें ब्राह्मणवादी व्यवस्था ने रविदास जी को लेकर भ्रमित किया है। उन्होंने कहा कि जिस घर में हमारा सम्मान नहीं होता, उस घर को छोड़ देना चाहिए।   


बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व एम एल सी महेश आर्य जी ने इस मौके पर युवा शक्ति दल टीम के कार्यों की तारीफ की। उन्होने कहा कि हमारा समाज सदियों से संघर्षशील रहा है। हम अपने महापुरुषों के संर्घषों और कुर्बानी के कारण ही आज हम गर्व कर रहे हैं। महेश आर्य ने कहा कि बाबा साहब ने संविधान के रूप में हमें पावर हाउस दे दिया है, लेकिन हमारा समाज अभी जागा नहीं है और विभिन्न धड़ों में बंटा हुआ है। इसी का नतीजा है आज हमारी मास्टर चाबी दूसरों के हाथों में चली गई है। अब आरक्षण को खत्म करने की साजिश रची जा रही है। उन्होंने पश्चिम बंगाल के एक विद्वान और समाज सुधारक का विचार बताते हुए कहा कि जिस समाज का पीएम और सीएम नहीं होता वो समाज ताजा नहीं होता। उन्होंने कहा कि यदि बाबा साहब के कारवां को जीवित रखना है कि तो है तो हमें हीरे की परख रखनी होगी। हमें अच्छा जौहरी बनने की आवश्यकता है।   

 
जेएनयू में प्रोफेसर डॉक्टर महेंद्र सिंह राणा ने भी गोष्ठी को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि महान संत गुरु रविदास जी पर काफी शोध हुआ है और हो रहा है। डॉक्टर महेंद्र सिंह राणा ने कहा कि हमारे आंदोलनों का कोई उद्देश्य नहीं होता। हम कार्य करके भूल जाते हैं, हमें जिम्मेदारी लोनी चाहिए। हमारे युवाओं को आगे आकर काम करने की जरूरत है। संत रविदास जी हमेशा संगठन पर बहुत जोर देते थे। हमें गुरु रविदास को के विचारों को सही तरीके समझना होगा।   


इस मौके पर युवा शक्ति दल ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों को गुरु रविदास जी का चित्र और शॉल पहनाकर सम्मानित किया। इसके साथ ही बहुजन समाज की विशेष प्रतिभाओं, खिलाड़ियों और मेधावी छात्र-छात्राओं को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।  


गुरु रविदास जी की 641वीं जयंती पर हुए इस कार्यक्रम की अध्यक्षता पसोंडा निवासी वरिष्ठ समाजसेवी सहदेव सिंह जाटव ने की। इस मौके पर युवा शक्ति दल के राष्ट्रीय रवि कुमार गौतम ने सभी अतिथियों और उपस्थित जन समूह का आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम को सफल कराने में युवा शक्ति दल की टीम के सदस्यों विजय कुमार जाटव, नरेश गौतम, नितिन गौतम, डॉ. कालू सिंह जाटव, कपिल कुमार, एडवोकेट भजन लाल, संजय कुमार, पिंटू गौतम, रिंकू गौतम, अरविंद कुमार, ललित सागर समेत कई कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका रही।     

 
इस मौके पर पूर्व डिप्टी एसपी और भीम आर्मी के प्रवक्ता कल्याण सिंह, समाजसेवी और फिल्म निर्माता सुभाष सागर, जनतांत्रिक सत्ता समाचार पत्र के संपादक संजीव कुमार, समाजसेवी और बिल्डर एस के सिंह, पूर्व सीएमओ डॉ. श्याम सिंह, वरिष्ठ समाजसेवी सेठ गिरधारीलाल, वी आर गौतम, बीएसपी नेता सिकंदर यादव, एडवोकेट के के एल गौतम, नोएडा अथॉरिटी के विधि अधिकारी ज्ञानचंद, नोएडा अथॉरिटी के अधिकारी आर पी बर्मन, लोकसभा के एसओ ओमकार सिंह, कर्नल आर आर राम समेत काफी संख्या में गणमान्य लोगों ने उपस्थित होकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई।      

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े