img

शुगर मिल में ज़हरीली गैस रिसाव से 300 से ज्यादा बच्चों की हालत बिगड़ी, मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश

शामली। मंगलवार को उत्तरप्रदेश के शामली में एक शुगर मिल में गैस रिसाव के कारण 300 से ज्यादा स्कूली बच्चों की हालत बिगड़ गई है, मिल के पास मौजूद होने की वजह से दो स्कूलों के बच्चों को पेट, गले, आंख और शरीर के दूसरे अंगों में जलन की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया। काफी बच्चे बेहोश भी हो गए, 30 बच्चों की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है।
  

प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार, शामली के बुढ़ाना रोड पर शुगर मिल का बॉयलर है जिसमें से गैस रिसाव हुआ है। यहां डिस्टलरी व शुगर मिल से निकली वेस्टेज को सड़क किनारे डाला जाता है। यहां पास में ही डिस्टलरी का गंदा पानी एकत्र कर उसे रिसाइकिल किया जाता है। इसी रोड पर सरस्वती विद्या मंदिर व सरस्वती जूनियर हाई स्कूल भी है। जिनके बच्चे गैस से प्रभावित हुए हैं।


लोगों ने बताया कि मंगलवार को सुबह शुगर मिल के कर्मचारी वेस्टेज को नष्ट करने के लिए उस पर केमिकल डाल रहे थे। केमिकल से निकली गैस से बच्चों को सांस लेने में दिक्कत होने लगी। स्कूल प्रशासन कुछ समझ पाता, इससे पहले ही कई बच्चे बेहोश होने लगे। कुछ ही देर में दोनों स्कूल के करीब तीन सौ बच्चे बेहोश हो गए।

प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार, स्कूल में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। अभिभावकों और जिला प्रशासन को इसकी सूचना दी गई। पुलिस और प्रशासन के लोगों ने पहुंचकर बेहोश व बीमार बच्चों को जिला अस्पताल, सीएचसी व निजी अस्पतालों में भर्ती कराया।

अभिभावकों ने मिल प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा भी किया है। फिलहाल बच्चों का उपचार जारी है। प्रशासन, पुलिस व शिक्षा विभाग के अधिकारी पूरे मामले की जांच कर रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहारनपुर के आयुक्त को इस मामले की जांच के आदेश दिये हैं।    

सतीश आज़ाद
सतीश आज़ाद
संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े