img

UPDATE- कासंगज सांप्रदायिक हिंसा- 80 लोग गिरफ्तार, तनावपूर्ण शांति बरकरार

उत्तरप्रदेश, कासंगज- गणतंत्र दिवस पर उत्तर प्रदेश के कासगंज में दो समुदायों के बीच हिंसा के बाद इलाके में तनावपूर्ण शांति बनी हुई है। पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने मीडिया को जानकारी दी कि हिंसा में शामिल लोगों पर राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून (रासुका) की लगाई जाएगी। अब तक 80 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है। घर-घर जाकर तलाशी ली जा रही है। कुछ जगहों से विस्फोटक भी बरामद हुए हैं।

रविवार को हालात पर काबू पाने के चर्चा के लिए शांति समिति की बैठक भी हुई, शांति समिति की बैठक में शहर के गणमान्य लोग शामिल हुए और ये तय किया गया कि सभी दुकानदार अपनी-अपनी दुकानें खोलेंगे। इस बीच शहर के नदरई गेट इलाके के बाकनेर पुल के पास एक गुमटी में आग लगा दी गई। नामज़द आरोपियों के घरों पर दबिश दी जा रही है।

आगरा ज़ोन के अपर पुलिस महानिदेशक अजय आनंद ने बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में दावा कि शहर में डर का माहौल नहीं है। पुलिस ने वारदात पर रोक लगाई है और घटनाओं में शामिल किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा।

आगरा के मंडलायुक्त सुभाष चंद्र शर्मा ने कहा कि बैठक के दौरान सभी पक्षों ने अपना-अपना नज़रिया पेश किया और मौजूदा हालात को लेकर अपनी चिंता ज़ाहिर की, प्रशासन ने उनकी हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है, बैठक में शामिल लोगों से अपने-अपने इलाकों में निगरानी रखने को कहा गया है।

उन्होंने कहा कि दुकानदारों से कहा गया है कि वे अपने-अपने प्रतिष्ठान खोलें, प्रशासन सुरक्षा सुनिश्चित करेगा. दुकानें खुलेंगी तो हालात धीरे-धीरे सामान्य हो जाएंगे, ज़िला प्रशासन वीडियो फुटेज के आधार पर उपद्रवियों को चिह्नित कर रहा है और उनके ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जाएगी।

इस बीच, प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कासगंज में हुई घटना को दुखद बताते हुए इसकी निंदा की, उन्होंने कहा कि जो लोग भी इसके लिए दोषी हैं, उनमें से एक भी व्यक्ति नहीं बख्शा जाएगा।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ख़ुद हालात की समीक्षा की है। अपराधी चाहे जितना बड़ा या प्रभावशाली हो, उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी, कुछ लोग लूटपाट कराने और आपसी मतभेद कराने कोशिश कर रहे हैं।

मालूम हो कि गणतंत्र दिवस पर विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ताओं द्वारा कासगंज के बड्डूनगर में मोटरसाइकिल रैली निकाले जाने के दौरान दोनों पक्षों के बीच पथराव और गोलीबारी हुई थी, जिसमें एक युवक की मौत हो गई थी और एक दो जख़्मी हो गया था।

इससे पहले शनिवार को भी आगज़नी और तोड़फोड़ की घटनाएं जारी रहीं। शनिवार को उपद्रवियों ने तीन दुकानों, दो निजी बसों और एक कार को आग के हवाले कर दिया था।

शुक्रवार की हिंसा में मारे गए अभिषेक गुप्ता उर्फ चंदन की शनिवार सुबह शांतिपूर्ण अंत्येष्टि के बाद कुछ उपद्रवियों ने शांति भंग करने का प्रयास किया लेकिन उनसे सख़्ती से निपटा गया। शहर के बाहरी हिस्सों में आगज़नी के छिटपुट प्रयास हुए, पूरे इलाके में धारा 144 लागू कर दी गई है।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

0 Comments

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े