img

IIT के 50 पूर्व छात्रों ने किया बहुजन आज़ाद पार्टी 'बाप' का गठन

देश के सबसे प्रतिष्ठित तकनीकी संस्थान भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) के 50 पूर्व छात्रों के एक समूह ने अपनी जॉब छोड़कर एक राजनीतिक पार्टी का गठन किया है।

देश में अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी), और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के लोगों के अधिकारों के लिए लड़ने को लेकर इन लोगों ने राजनीति में आने का फैसला किया है।

आईआईटी पास इन छात्रों ने अपने संगठन का नाम बहुजन आजाद पार्टी (बीएपी) रखा है और चुनाव आयोग से स्वीकृति मिलने का इंतजार कर रहे हैं।

इस समूह का नेतृत्व कर रहे नवीन कुमार ने कहा, 'हमनें 50 लोगों का समूह बनाया है जो सभी आईआईटी से हैं। हम सभी ने पार्टी के काम के लिए अपने फुल टाइम जॉब को छोड़ दिया है। हमने पार्टी की स्वीकृति के लिए चुनाव आयोग में आवेदन किया है और अभी जमीनी काम कर रहे हैं।'

हालांकि ये सभी जल्दबाजी में नहीं है और 2019 लोकसभा चुनाव में नहीं उतरना चाहते हैं।

नवीन कुमार ने कहा, 'हम जल्दबाजी नहीं करना चाहते हैं और छोटी पार्टियों के तरह सिकुड़ना नहीं चाहते हैं। हम 2020 बिहार विधानसभा चुनाव में अपनी शुरुआत करेंगे और उसके बाद अगले लोकसभा चुनाव पर लक्ष्य है।'

नवीन ने कहा, 'जब हमारा रजिस्ट्रेशन हो जाएगा, तो हम पार्टी की छोटी इकाई बनाकर जमीन पर टारगेट समूह के लिए काम करना शुरू कर देंगे। हम किसी भी राजनीतिक पार्टी के होड़ में या विचारधारा के साथ अपने आप को नहीं बढ़ाना चाहते हैं।'

क्या है पार्टी का लक्ष्य:

इस समूह में ज्यादातर सदस्य एससी, एसटी और ओबीसी से हैं और चाहते हैं कि शिक्षा और रोजगार के मामले में ये पिछड़े वर्ग आगे आएं।इन्होंने अपने पोस्टर में डॉ बी आर अंबेडकर, ज्योतिबा फुले, ई वी रामासामी पेरियार, सुभाष चंद्र बोस, ए पी जे अब्दुल कलाम की तस्वीरों के साथ सोशल मीडिया कैंपेन शुरू कर दिया है।

पोस्टर में लिखे प्रमुख मुद्दे:
जनसंख्या के अनुपात में बहुजनों (ओबीसी, एससी और एसटी) को निजी क्षेत्रों, उच्च न्यायालयों तथा पदोन्नति में आरक्षण।

सभी क्षेत्रों में महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण, श्रेणी वार।

भूमि सुधार।

शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, रोजगार, पर्यावरण और सामाजिक न्याय प्रणाली में व्यापक सुधार। प्रत्येक नागरिकों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण, मानवतावाद और ज्ञानार्जन की भावना का विकास।

निजी क्षेत्रों में तथाकथित उच्चजाति को आर्थिक आधार पर विशेष अवसर।

मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
मुख्य संवाददाता
PROFILE

' पड़ताल ' से जुड़ने के लिए धन्यवाद अगर आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर करें और सबस्क्राइब करें। हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।

संबंधित खबरें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

1 Comments

  •  
    Deep Chand
    2018-04-25

    Please give your own assessment in future aspect also thanks

मुख्य ख़बरें

मुख्य पड़ताल

विज्ञापन

संपादकीय

वीडियो

Subscribe Newsletter

फेसबुक पर हमसे से जुड़े